धोखाधड़ी मामलों को हर बैंक शाखा की निगरानी असंभव : पटेल

जागरूक टाइम्स 178 Jun 13, 2018

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने मंगलवार को कहा कि केन्द्रीय बैंक के पास उस तरह की धोखाधड़ी रोकने के लिए पर्याप्त अधिकार नहीं है जैसी नीरव मोदी ने की और बैंकिंग नियामक के लिए सभी बैंक शाखाओं की निगरानी कर पाना असंभव है। सूत्रों के अनुसार पटेल ने कांग्रेस सदस्य एम वीरप्पा मोइली की अध्यक्षता वाली वित्तीय स्थायी संसदीय समिति को दिए लिखित बयान में यह बात कही। उन्होंने लिखा है कि देश में 1.63 लाख से अधिक बैंक शाखाएं हैं, जिससे केन्द्रीय बैंक के लिए दैनिक आधार पर नीरव मोदी जैसे मामलों की निगरानी करना असंभव है। उन्होंने संसदीय समिति का आश्वस्त किया कि बैंकिंग तंत्र को मजबूत बनाने के लिए पर्याप्त कदम उठाए जा रहे हैं और भविष्य में नीरव मोदी जैसे मामले नहीं हो, ऐसी कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस तरह की समस्या से जल्द ही निजात पा लिया जाएगा। समिति के अध्यक्ष और सदस्यों ने जोखिम वाले ऋण में हो रही बढ़ोतरी और कई सरकारी बैंकों की स्थिति पर भी चिंता जताई। सूत्रों के अनुसार गवर्नर से नोटबंदी के दौरान जमा हुए नोटों के बारे में भी पूछा गया, जिस पर उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक ने नोट गिनती करने वाली नई मशीनों के आर्डर दिए गए क्योंकि पुरानी मशीने या कर्मचारी इतने अधिक नोटों की गिनती पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं है।


Leave a comment