पति की अर्थी उठती देख पत्नी ने भी छोड़ी दुनिया

जागरूक टाइम्स 79 May 24, 2018
सीकर। साथ जिएंगे और साथ ही मरेंगे। ऐसी कसमें तो कई जोड़े खाते हैं, मगर इसे सभी निभा नहीं पाते हैं। हालांकि झुंझुनूं के एक दंपती ने वास्तव में ऐसा कर दिखाया है। यह कोई कसम या वादा ना होकर इत्तफाक भी हो सकता है। पति-पत्नी ने महज 24 घंटे के अंतराल में ही दुनिया को अलविदा कह दिया। दोनों का एक साथ ही एक ही चिता पर दाह संस्कार किया गया। यह घटना पूरे झुुंझुनूं जिले में चर्चा का विषय रही। यह दर्दनाक घटना झुंझुनूं के निकटवर्ती गांव बीबासर की है। बीबासर निवासी रामेदव डांगी (88) की मंगलवार शाम को मौत हो गई। बुधवार सवेरे रामदेव डांगी के दाह संस्कार की तैयारियां चल रहीं थीं। इस दौरान रामदेव की डांगी की पत्नी नानची देवी (85) की भी अचानक तबीयत खराब हो गई। थोड़ी देर बाद नानची देवी ने भी प्राण दे दिए। ऐसे में रामदेव व नानची देवी की अर्थी एक साथ उठाई गई। दोनों का गांव के मोक्षधाम में एक साथ ही दाह संस्कार किया गया। बीबासर गांव के लोगों का कहना था कि उन्होंने पति-पत्नी का एक साथ दाह संस्कार पहली बार देखा। बीबासर युवा मंडल के अध्यक्ष अमीलाल ने बताया कि रामदेव खेती किया करते थे। उनके एक बेटी है। कोई बेटी नहीं था। चिता को रामदेव के भाई के बेटे फूलचंद व दोहिती ने मुखाग्नि दी।

Leave a comment