सिरोही: चिनार व वासा बांध ओवरफ्लो, कई बरसाती नाले उफान पर

जागरूक टाइम्स 488 Jul 20, 2018


- वेस्ट बनास, अणगौर, बूटरी, वाजणा, बगेरी, गिरवर, मंडार नाला व निम्बोड़ा बांध में पानी की आवक शुरू

- सिरोही में पहली बार मौसम की भारी बारिश, ढाई घंटे की तेज बारिश से शहर तरबतर

- चौबीस घंटे में माउंट में सर्वाधिक 93 मिमी., पिण्डवाड़ा में 43, रेवदर में 39, आबूरोड में 23, सिरोही में 20 व शिवगंज में 4 मिमी. वर्षा रिकार्ड

सिरोही। समूचे सिरोही जिले में मानसून सक्रिय हो जाने से चारों ओर झमाझम बारिश होने के समाचार मिल रहे है।पिण्डवाड़ा व आबूरोड ब्लॉक में कई बरसाती नदी-नाले उफान पर है।सिरोही में शुक्रवार दोपहर बारह बजे से ढाई बजे तक मौसम में पहली बार भारी बारिश होने से पूरा शहर तरबतर हो गया।सरजावाव दरवाजा के आगे पानी के भराव के कारण लोगों व वाहनों को आवाजाही में परेशानी का सामना करना पड़ा।

आम जनजीवन भी आंशिक रूप से प्रभावित रहा।यूं दिनभर कभी रिमझिम तो कभी फुहारों का दौर जारी रहा।हालांकि, शाम पांच बजे बारिश बंद हो गई। जिलेभर में मानसून की सक्रियता के कारण सिरोही के प्रमुख पेयजल स्रोत अणगौर बांध समेत करीब दर्जन भर बांधों में पानी की आवक शुरू हो चुकी है।जिले के सबसे बड़े बनास बांध में भी पानी की आवक शुरू हो गई है, और शाम छह बजे गेज 4 फुट पर पहुंचने की जानकारी मिली है।उधर, चिनार (आबूरोड) व वासा (पिण्डवाड़ा) बांध ओवरफ्लो हो गए हैं।पिण्डवाड़ा ब्लॉक का वालोरिया बांध पर चार दिन से चादर चल ही रही है।

फिर 24 घंटे भारी बारिश की चेतावनी
जल संसाधन कंट्रोल रूम से एईएन आरके पुरोहित ने बताया कि मौसम विभाग ने शुक्रवार को पूरे सिरोही जिले में अगले 24 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी दी है। चेतावनी के मुद्देनजर पुलिस व प्रशासन सतर्कता बरत रहे हैं।

सुबह आठ बजे तक रिकार्ड बारिश
जल संसाधन विभाग के कंट्रोल रूम के मुताबिक शुक्रवार सुबह आठ बजे समाप्त चौबीस घंटों में माउंट आबू में सर्वाधिक 93 मिमी. (मौसम की अब तक की कुल 299 मिमी.), पिण्डवाड़ा में 43 (140), रेवदर में 39 (128), आबूरोड में 23 (249), सिरोही में 20 (97.4) व शिवगंज में 4 (95.8) मिलीमीटर वर्षा रिकार्ड की गई।

बांधों में आवक से बढऩे लगा गेज
अणगौर बांध का गेज दशमलव 50 से बढक़र दशमलव सत्तर, भूला का गेज 17 से बढक़र 19.70, बूटरी का गेज 5 फीट, वाजणा का दशमलव 3 से बढक़र 3 मीटर, बगेरी का 2.30 मीटर, गिरवर का 8 फीट, मंडार नाला-फस्र्ट का दशमलव 5 से दशमलव 7 मीटर व निम्बोड़ा बांध का गेज दशमलव 6 से बढक़र दशमलव 7 मीटर हो गया।

राहत एवं बचाव को तैयार रहने के निर्देश
उधर, जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अध्यक्ष व जिला कलक्टर बीएल मीणा ने मानसून के दौरान सितम्बर तक कभी भी अतिवृष्टि एवं बाढ़ की स्थिति बनने के मद्देनजर राहत एवं बचाव कार्यों के लिए मुस्तैद रहने के सभी सम्बंधित अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

भारी बारिश में रपटों पर ट्रैफिक बंद कराने के निर्देश
जिला कलक्टर ने अधिकारियों से कहा कि खास तौर पर आबूरोड व पिण्डवाड़ा ब्लॉक में अधिक बारिश होने पर रपटों पर तेज वेग से बहते पानी में वाहन उतारने पर दुर्घटना होने की आशंका बनी रहती है। ऐसी स्थिति में इन दो ब्लॉक के साथ जहां भी भारी वर्षा के दौरान रपटों या कॉज-वे पर तेज वेग के साथपानी बहता है वहां कोई भी चालक बगैर अंदाजा लगाए वाहन को पानी में नहीं उतारे तथा वहां पुलिस से सम्पर्क स्थापित कर वाहनों की आवाजाही बंद करा दें।ताकि, दुर्घटना को टाला जा सकें।

Leave a comment