करोड़ों रुपए हड़प फरार हुए खेतेश्वर सोसायटी का चेयरमैन गिरफ्तार

जागरूक टाइम्स 82 May 24, 2018
सिरोही। पुलिस ने जमाकर्ताओं की सौ करोड से अधिक राशि हड़प कर फरार एक सोसायटी के अध्यक्ष विक्रमसिंह राजपुरोहित को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। आरोपी अन्य संचालकों के साथ सालभर से फरार चल रहा था। पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश के अनुसार खेतेश्वर अरबन के्रेडिट को-ऑपरेटिव की राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र समेत विभिन्न प्रांतों में दर्जनों शाखाएं संचालित थी। सोसायटी की लुभावनी योजनाओं के झांसे में आकर लोगों ने करोड़ों रुपए इन शाखाओं में जमा करवाए। लेकिन, करीब सालभर पहले पाली जिले के खिवाड़ा क्षेत्र के पिलोवनी व हाल पालड़ी एम निवासी सोसायटी चेयरमैन विक्रमसिंह राजपुरोहित पुत्र रामसिंह व अन्य संचालक विभिन्न राज्यों में संचालित 45 शाखाओं पर ताले लगा लोगों की जमा पंूजी हड़प कर फरार हो गए। सोसायटी का प्रधान कार्यालय सिरोही में संचालित था। ऐसे में दर्जनों पीडि़तों की ओर से परिवाद दायर किए गए। जिसे लेकर चेयरमैन समेत अन्य आरोपियों की तलाश थी। मामले की गम्भीरता को देखते हुए वृताधिकारी भवानीसिंह के निर्देशन में कोतवाली थानाधिकारी आनंदकुमार के नेतृत्व में टीम गठित कर आरोपी विक्रमसिंह को जोधपुर से गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि सोसायटी चेयरमैन व संचालकों के विरुद्ध लोगों का जमा धन धोखाधड़ी से हड़पने के सैकड़ों मामले दर्ज है। संचालकों की ओर से जिले में करीब 40 करोड एवं प्रदेश के विभिन्न स्थानों व गुजरात, महाराष्ट्र, दादरा नगर हवेली, दमन दीव शाखाओं से करोड़ों की राशि हड़प ली गई। कभी साधु तो कभी सपेरा का रूप धरा पुलिस अधीक्षक ने बताया कि आरोपी विक्रमसिंह फरार होने के पश्चात अहमदाबाद, गोवा, नेपाल, हरियाणा, बिहार सहित अलग-अलग स्थानों पर साधु का वेश बनाकर रहता था तो कभी सपेरे का रूप धारण कर लेता था। आरोपी ने जोधपुर के महामंदिर इलाके में किराए पर मकान ले रखा था, जहां आता-जाता रहता था व वहां अपने भतीजे के सम्पर्क में था। पुलिस ने लम्बी निगरानी के बाद उसे धर दबोचा। उन्होंने बताया कि सोसायटी की गुजरात में 22 व महाराष्ट्र में 5 शाखाएं थी। आरोपियों ने वर्ष 2002 में सोसायटी की शाखा खोली थी। मामले में लिप्त शेष आरोपियों की भी शीघ्र गिरफ्तारी की जाएगी। सोसायटी के अध्यक्ष की गिरफ्तारी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले कांस्टेबल योगेन्द्रसिंह को पदोन्नत करने का प्रस्ताव पुलिस मुख्यालय भिजवाया जाएगा। समस्त टीम को पुरस्कृत करने के लिए पुलिस महानिदेशक को अभिश्ंासा की जाएगी।

Leave a comment