अनादरा में ट्रोलर दुकानों में घुसा, महिला समेत 4 की मौत, 16 घायल

जागरूक टाइम्स 518 Oct 10, 2019

- मृतकों का पुलिस ने पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव परिजनों को सौंपे

- दोपहर करीब एक बजे हुई दुर्घटना, सिरोही की तरफ आ रहा ट्रोलर सड़क किनारे की दुकानों में घुसा

- ट्रोलर के नीचे दबने से तीन जनों की मौके पर ही मौत, एक ने सिरोही अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ा

- विधायक जगसीराम कोली, कलक्टर सुरेन्द्र कुमार सोलंकी व एसपी कल्याणमल मीणा पहुंचे मौके पर

सिरोही/अनादरा। सिरोही-मंडार मेगा हाईवे पर अनादरा में बस स्टैण्ड पर गुरुवार दोपहर एक बेकाबू ट्रोलर रोड से सटकर स्थित रेस्तरां व दुकान में घुस जाने से हुए हादसे में एक महिला समेत तीन जनों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि सत्रह अन्य घायल हो गए। घायलों को सिरोही लाकर सार्वजनिक अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां एक घायल ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। घायलों में एक बच्चे समेत चार की हालत अत्यंत गम्भीर होने से चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद उसे उदयपुर के लिए रेफर कर दिया। 

उधर, घायल वाजणा निवासी जमना (25) पत्नी जीवाराम गरासिया, वाजणा निवासी दुर्गा (10) पुत्री जीवाराम गरासिया व मालगांव निवासी संजीव (40) पुत्र लक्ष्मणराम को अनादरा के सरकारी अस्पताल में ही भर्ती किया गया, जिनका वहां उपचार जारी है। दर्दनाक हादसे में कुल चार जनों की मौत हो गई, जबकि ट्रोलर चालक भिंड (मध्य प्रदेश) निवासी मुनेश सिंह पुत्र कालीचरण समेत सोलह घायलों का सिरोही व अनादरा के सरकारी अस्पताल में उपचार जारी है। बेकाबू ट्रोलर बिजली के एक खम्भे व पांच बाइक भी चपेट में ले लिए। सूचना मिलते ही विधायक जगसीराम कोली, कलक्टर सुरेन्द्र कुमार सोलंकी व एसपी कल्याणमल मीणा समेत कई प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। 

उधर, जैसे ही हादसे की सूचना मिलते ही घायलों के उपचार के लिए एडीएम रिछपालसिंह बुरडक, एसडीएम हंसमुख कुमार, सिरोही सीओ ओमकुमार पुरोहित, कोतवाली एसएचओ बुद्धाराम समेत कई अधिकारियों व समाजसेवियों ने सिरोही के सार्वजनिक अस्पताल पहुंचकर व्यवस्थाओं का मोर्चा सम्भाल लिया। डॉक्टरों व नर्सिंग स्टाफ को एसओएस पर अस्पताल बुलाया गया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष जीवाराम आर्य ने भी अस्पताल पहुंचकर घायलों की कुशलक्षेम पूछी। शाम को अनादरा एसएचओ हमीरसिंह भाटी ने बताया कि चारों मृतकों का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिए गए हैं।

चार गम्भीर घायलों को किया उदयपुर रेफर, बच्चे भी शामिल
अनादरा थानाधिकारी हमीरसिंह भाटी के अनुसार अनादरा बस स्टैण्ड पर गुरूवार दोपहर करीब एक बजे के आसपास रेवदर से सिरोही की जा रहे ट्रोलर पर से चालक ने काबू गंवा दिया। ट्रोलर दो जीपों को टक्कर मारता हुआ आगे बढ़ा और बिजली के खम्भे को चपेट में लेता हुआ आगे बढ़ा। बिजली के खम्भे को चपेट में लेने के बाद वहां बस स्टैण्ड पर स्थित दूध की डेयरी व एक इलेक्ट्रीकल आइटम्स की दुकान में घुस गया।

दुकान के बाहर बैठे असावा निवासी हिमाराम (50) पुत्र सोमाराम चौधरी, वाजणा निवासी विनेश कुमार (3) पुत्र जीवाराम गरासिया व अनादरा निवासी धरमीदेवी (60) पत्नी गोविन्दराम कलबी की ट्रोलर के नीचे दबने से मौके पर ही मौत हो गई। मौके पर तत्काल जेसीबी बुलाई गई और ट्रोलर के नीचे दबे लोगों को भारी मशक्कत कर बाहर निकाला गया। हादसे में पूरे बारह जने घायल हो गए, जिन्हें सिरोही के सार्वजनिक अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। घायलों को एम्बुलेन्स से सिरोही लाकर सार्वजनिक अस्पताल के ट्रोमा सेन्टर में भर्ती करवाया गया, जहां वेलांगरी निवासी दलपत (35) पुत्र शंकरलाल वागरी ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। 

उधर, घायलों में से सियाकरा निवासी सोकली (5) पुत्री प्रभुराम गरासिया व उसकी बहन चीना (3) पुत्री प्रभुराम गरासिया के सिर में गम्भीर चोट लगने, असावा निवासी जोशना (25) पत्नी रणछोडऱाम कलबी के सिर में चोट व दोनों पांव फ्रेक्चर होने तथा बेहोशी की हालत में मनीषकुमार के सिर में चोट होने से गम्भीर हालत में चारों को उदयपुर के लिए रेफर किया गया। शेष सिरोही व अनादरा के सरकारी अस्पताल में भर्ती है। जिनमें से बाद में कुछ की कुछ की हालत में सुधार होने से अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। 

अनादरा ट्रोलर हादसे में ये हुए घायल
घायलों मेें सियाकरा निवासी सोकली (5) पुत्री प्रभुराम गरासिया, असावा निवासी जोशना (35) पत्नी रणछोडऱाम कलबी, मालगांव निवासी प्रवीणसिंह (45) पुत्र सोहनसिंह राजपूत, नागाणी निवासी मोहित (11) पुत्री सरूपाराम मेघवाल, नागाणी निवासी भूरीदेवी (50) पत्नी ओटाराम मेघवाल, सियाकरा निवासी चीना (3) पुत्री प्रभुराम गरासिया, आमलाखेड़ा निवासी मगनलाल (12) पुत्र कृष्ण कोली, आमला खेड़ा निवासी पारूदेवी (40) पत्नी कृष्ण कोली, आमला खेड़ा राहुल (8) पुत्र कृष्ण कोली, वाजणा निवासी जमना (25) पत्नी जीवाराम गरासिया, वाजणा निवासी दुर्गा (10) पुत्री जीवाराम गरासिया, मालगांव निवासी संजीव (40) पुत्र लक्ष्मणराम, मनीष कुमार, सियाकरा निवासी बबली (30) पत्नी बाबूराम गरासिया, वेलांगरी निवासी वीराराम (30) पुत्र शंकरलाल वागरी, एवं ट्रोलर चालक भिंड (एमपी) निवासी मुनेश सिंह पुत्र कालीचरण शामिल है।

काल बनकर आया ट्रोलर और लील ली चार जिन्दगियां
गुरुवार को अनादरा में ट्रोलर काल बनकर आया और चार जिन्दगियां लील ली। दृश्य इतना विभत्स था कि प्रत्यक्षदर्शियों की भी एक बार तो रूह कांप गई। ट्रोलर के नीचे दबे लोगों को बाहर निकालने के लिए जेसीबी की मदद लेनी पड़ी। विडम्बना तो यह है कि बिजली के खम्भे के साथ पांच बाइक भी ट्रोलर की चपेट में आ गई। गनीमत रही कि हादसे में बिजली के तारों की चपेट में लोग नहीं आए, अन्यथा और भी बड़े हादसे की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता था। मौके पर अफरा-तफरी का माहौल हो गया। बाद में पुलिस ने व्यवस्था सम्भाल ली। उधर, हादसे के कारण रेवदर की तरफ व सिरोही की तरफ वाहनों की लम्बी कतार लग गई। 

अफसोस इस बात का कि दादी पोते का टिफिन नहीं पहुंचा पाई
ट्रोलर की चपेट में आई धरमीदेवी अपने पोते को टिफिन देने जा रही थी। हाथ में टिफिन थामकर चलते समय बेकाबू ट्रोले ने साठ वर्षीया धरमीदेवी को अपनी चपेट में लेकर काल का ग्रास बना दिया। जिन अरमानों से धरमीदेवी टिफिन लेकर रवाना हुई, तब उसने सोचा होगा कि वह स्कूल में अपने पोते को हाथ से खाना खिलाएगी, पर काल के क्रूर हाथों ने उसे लील लिया और वह ट्रोलर के नीचे दब गई। टिफिन भी हाथ में से छूटकर बिखर गया। पोते को अपने हाथ से खाना खिलाने की उसकी तमन्ना अधूरी ही रह गई। धरमीदेवी को जेसीबी की मदद से भारी मशक्कत के बाद बाहर निकाला जा सका।

Leave a comment