कभी ९२ गांवों में चलती थी 'थानेदारी', आज पड़ा हैं 'वीरान'

जागरूक टाइम्स 284 Oct 22, 2019

- तलहटी मेें स्थित पुलिस चौकी जोकभी थाना हुआ करता था, दुर्दशा का शिकार

- रख-रखाव के अभाव में अतिक्रमण का अंदेशा, पूर्व में भी पुलिस चौकी पर एक सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी के द्वारा किया गया था अतिक्रमण

तलहटी। किसी समय में पुरे अचंल में शहरी क्षेत्र को छोड़कर ९२ गांवों में थानेदारी का संचालन तलहटी माउंट आबू रोड स्थित थाने से होता था। ये सिलसिला कई दशकों तक चलता रहा। चाहे भाखर क्षेत्र हो या भीतरोट क्षेत्र या फिर ग्रामीण क्षेत्र सभी अचंल के ९२ गांवों के फरीयादियों, वाद-विवाद के समाधान का केन्द्र बिन्दु तलहटी स्थित थाना ही था। समय के बदलाव के साथ तलहटी में नये प्रशासनिक भवन का निर्माण हुआ। जिसका उद्धाटन ततकालीन राज्यपाल अंशुमान सिंह के कर कमलों द्वारा १० जून २००१ को ततकालीन परिवहन मंत्री छोगाराम बाकोलिया की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ था। तत्पश्चात पुराने भवन में सुरक्षित पुलिस बल के जवानों के रहने के लिए रखा गया। मरम्मत के अभाव में पुराने भवन दिन ब दिन खण्डर मेंं तब्दील होने लगा। जो आज महज एक खण्डर के रूप में विद्यमान हैं। वहीं उक्त खाली व वीरान पड़े थाने पर अतिक्रमण का भी अंदेशा बना रहता हैं। इससे पूर्व मे भी किवरली टोल नाके के समीप स्थित पुलिस चौकी जो लम्बे समय से वीरान पड़ी पुलिस चौकी पर एक सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी ने अतिक्रमण की नीयत से कब्जा किया था। हालॉकि उसी समय सदर पुलिस ने कब्जा खाली कराकर पुन: उक्त चौकी को अनपे कब्जे में ले लिया गया था। और अतिक्र्रमी सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी के विरूद्ध कानुनी कार्यवाही को अंजाम दिया गया था।


Leave a comment