सिरोही टनल हादसा : 10-10 लाख के मुआवजे पर उठाए श्रमिकों के शव

जागरूक टाइम्स 884 Jun 30, 2018

सिरोही से सटकर गुजरते पिंडवाड़ा-ब्यावर फोरलेन मार्ग पर बाहरीघाटा सेक्शन की टनल के छोर पर चट्टानों के मलबे में दबने से चार श्रमिकों की मौत के बाद शनिवार को मृतकों के परिजन प्रति मृतक तीस-तीस लाख रुपए का मुआवजा नहीं मिलने तक शव नहीं उठाने पर अड़ गए।

अंतत: मृतकों व कंपनी प्रतिनिधियों के बीच गोपालन राज्यमंत्री ओटाराम देवासी, भाजपा जिलाध्यक्ष लुम्बाराम चौधरी, एडीएम आशाराम डूडी आदि की मौजूदगी में हुई वार्ता में दोनों पक्षों के बीच मुआवजा राशि के सिलसिले में प्रति मृतक दस-दस लाख रुपए का मुआवजा तीन किश्तों में देने पर समझौता होने पर परिजन पोस्टमार्टम करवाकर शव लेने को सहमत हुए। समझौते के बाद पुलिस ने मृतकों का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया।

समझौतेे के बाद पोस्टमार्टम
जानकारी के अनुसार परिजनों ने तीस-तीस लाख का मुआवजा मांगा तो कंपनी प्रतिनिधियों ने बताया कि तीस-तीस लाख का मुआवजा देने का कंपनी में प्रावधान नहीं है। अंतत: दस-दस लाख रुपए का मुआवजा देने पर बात बनी। जिसके तहत चारों मृतकों को कंपनी की ओर से एडीएम आशाराम डूडी की मौजूदगी में ढाई-ढाई लाख रुपए नगद दिए गए।

शेष ढाई-ढाई लाख के चेक सप्ताह भर बाद एडीएम के जरिए एवं पांच-पांच लाख के चेक महीनेभर बाद देने की बात तय हुई। ओटाराम देवासी ने कहा कि यदि इस समयावधि में शेष रकम का भुगतान नहीं हुआ तो परिजन आंदोलन करने को मुक्त रहेंगे। इसके बाद पुलिस ने चारों मृतकों का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिए गए।

मोर्चरी में लगा परिजनों का तांता
वैसे तो शुक्रवार अपराह्न हादसे के बाद शाम को शव निकालने के बाद जैसे-जैसे शव मोर्चरी में पहुंचाए गए, वहां जमा हुए परिजनों व संबंधित समाज वालों ने आर्थिक सहायता नहीं मिलने तक शव नहीं उठाने का ऐलान कर दिया था। 

बाद में गोपालन राज्य मंत्री, पूर्व विधायक संयम लोढ़ा, भाजपा जिलाध्यक्ष, भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष गणपतसिंह, महिपाल चारण समेत कई जनप्रतिनिधि भी वहां पहुंचे। सुबह परिजनों व समाजबंधुओं की खासी भीड़ हो गई। परिजनों ने मृतक आश्रित परिवारों में से एक-एक को नौकरी व पेंशन दिलाने की भी मांग की।

Leave a comment