गोचर भुमि से अतिक्रमण मुक्त करवाने के लिये आखिर में मवेशियांे से धरना दिलाया

जागरूक टाइम्स 201 Aug 21, 2019

पिण्डवाड़ा। नगर के गोचर भुमि पर अतिक्रमण कों लेकर कई वर्षो से खाली करवाने की मांग चल रही थी पर प्रशासन की हतधर्मिता के चलते आखिर नगरपालिका के बाहर हजारो की संख्या में गाय, भैस,बकरी व भेड के साथ पशु पालकों ने चार घण्टे तक धरना प्रर्दशन किया। 20दिन के बाद गोचर भुमि से अतिक्रमण खाली करने का लिखित में प्रशासन के आसवासन देने पर धरना हुआ समाप्त। पालिका क्षैत्र में गोचर भुमि पर प्रभावशाली लोगो द्वारा पक्के मकान का निमार्ण, खेत,बोरवेल खोदकर अतिक्रमण किया है। जिसमे पशुओ कों चरने में व अतिक्रमणियो द्वारा मुक प्राणियो पर जान लेवा हमले होते थे। जिसको लेकर नगर के जनप्रतिनिधी व पशु पालकों ने गोचर भुमि से अतिक्रमण हटाने के लिये कई बार ज्ञापन सोपे थे, पर प्रशासन द्वारा मात्र खाना पुर्ति की जाती थी।

जिससे पशु पालक व नगर वासियो में रोष पनप रहा था, जिसको लेकर 10 दिन पुर्व पालिका के चैयरमेन पति रमेश भाटीया,उपाध्यक्ष सुरेन्द्र मेवाडा, पार्षद रणछोड रावल व पशु पालको के बीच द्वारिकाघीश मंदिर में आयोजित बैठक में 20 अगस्त तक समुचे गोचर भुमि से अतिक्रमण मुक्त करवाने की बात की गई थी, मगर 20 बीत जाने के बाद अतिक्रमण हटाने की कार्रवाही नही होने पर नाराज होकर मंगलवार रात्रि कों करीब 10 बजे द्वारिकाधीश मंदिर में आपातकालिन बैठक बुलाकर पशुपालकों ने अतिक्रमण हटाने कों लेकर सर्वसम्मती से बुधवार सुबह 10बजे नगरपालिका के बाहर पिण्डवाड़ा के सभी गाय, भैस,बकरी व भेड के साथ पशु पालकों ने धरना प्रदर्शन करने का निर्णय लिया। जिसमें आज सुबह बुधवार कों सभी पशु पालक अपने मवेशियो के साथ पालिका के बाहर धरने पर बैठे लोगो ने नगर पालिका प्रशासन के खिलाफ जमकर नारे बाजी की। शंति बनाये रखने के लिये पालिका अधिशाषी अधिकारी अनील झिंगोनिया ने तहसीलदार ब्रजेश गुप्ता,थानाधिकारी सुमेरसिंह इन्दा कों मोके पर बुलाया। वही प्रशासन ने पशुपालकों से वार्ता की जिसमें सबकी बात सुनकर 20 दिन के बाद अतिक्रमण हटाने के लिये पुलिस जाप्ता के साथ हटाने का लिखित में आसवासन देने पर धरना समाप्त हुआ।

पांच घण्टे तक पशुओ के लिये पानी चारे की व्यवस्था नही हुई
धरना प्रदर्शन में हजारो पशुओ कों सुबह 10बजे से दोपहर 2बजे तक भुखे प्यासे गाय, भैस,बकरी व भेड पालिका के बाहर बैठे रहे पर प्रशासन के अधिकारी द्वारा सुध नही ली गई। सभी पशु धरना प्रदर्शन कर रहे लोगो मुह ताकते रहे। वही धरना प्रदर्शन समाप्त होने के बाद भुखे प्यासे चल दिये।

पहली बार धरना प्रदर्शन में पशुओ ने भागीदारी निभाई
गोचर भुमि में अतिक्रमण मुक्त करवाने के लिये पशुपालक परेशान होकर देर रात्रि में बैठक कर पशुओं से धरना प्रदर्शन करने का निर्णय लेकर सुबह 10बजे हजारो की संख्या में पशु व पालक पालिका के बाहर धरना प्रदर्शन शुरु किया। जिसमें शायद जिले में पहली बार पशुओ ने हिस्सा लिया अपना हक लिखित में फैसला अपने पक्ष में करवाया।

धरना प्रदर्शन में भेड ने दिया बच्चे को दिया जन्म
चार घण्टै तक धरना प्रदर्शन के दोरान गर्भवती भेड ने बच्चे कों जन्म दिया, जिसमें प्रदर्शन कर रहे सभी लोग पहुचकर मादा भेड की सेवा में लगे दिखे।

इनकी रही मोजुदगी
धरना प्रदर्शन कों लेकर प्रशासन व गो पालकों में तना-तनी चलती रही वही कई बार वार्ता विफल हुई वही शिवसेना के रमेश रावल,नरेन्द्रसिंह राव,माधुराम देवासी,महैद्र राठौड,नारायण टाॅक,छगन टाॅक,किशन रेबारी,सोपाराम देवासी,भावाराम,प्रकाश देवडा,भेराराम घांची,मादुराम,सांखलाराम,पिराराम देवासी,तोलाराम घांची,पार्षद संजय गर्ग,भरत पटेल, कैलाश रावल सहित पशु पालकों व तहसीलदार, अधिशाषी अधिकारी के बीच वार्ता चली जिसमें पांच घण्टे बाद लिखित में आसवासन देने के बाद धरना समाप्त हुआ।

धरना प्रदर्शन में सुरक्षा प्रबन्ध में महिला पुलिस कर्मी की कमी खली
धरना प्रदर्शन में पुलिस थाना अधिकारी सुमेरसिंह इन्दा ने सुरक्षा व शांति बनाने का पुक्ता प्रबन्ध किया था पर धरने में शामिल हुई महिलओ कि सुरक्षा के लिये जाप्ते में महिला काॅस्टेबल की कमी देखी गई।







Leave a comment