कांग्रेस सरकार हर मोर्चे पर विफल-कालीचरण

जागरूक टाइम्स 105 Sep 21, 2019

- भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री कालीचरण सर्राफ की पत्रकारों से बातचीत

सिरोही। भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री कालीचरण सर्राफ ने राज्य की कांग्रेस सरकार को हर मोर्चे पर विफल करार देते हुए आरोप लगाया कि विधानसभा चुनाव के दौरान किए वादों में से कांग्रेस ने सत्तासीन होने के बाद एक भी वादा पूरा नहीं किया। आज हालात यह है कि किसान और युवा अपने आपको ठगा-सा महसूस कर रहे हैं। राज्य के लाखों किसान व युवा अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहे हैं। वे शनिवार को केन्द्र की भाजपा सरकार की ओर से अनुच्छेद-370 हटाने के सिलसिले में चलाए जा रहे जनजागरण अभियान के तहत आयोजित बैठक को सम्बोधित करने के बाद पेन्शनर समाज भवन के हॉल में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। 

उन्होंने बताया कि किसानों का कर्जा माफ नहीं हुआ। राज्य के शिक्षित बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया था, पर सत्तासीन होने के नौ माह बाद भी जब शिक्षित बेरोजगारों को भत्ता देने सम्बंधी सरकार की कोई योजना जनता के सामने नहीं आई और इस बीच लोकसभा के चुनाव आ गए। नतीजा यह निकला कि विधानसभा चुनाव के बाद जब लोकसभा चुनाव आए तो कांग्रेस का सूपड़ासाफ हो गया। राज्य की तमाम पच्चीस सीटों पर भाजपा जीत गई और कांग्रेस हार गई। इससे बुरा हश्र और क्या हो सकता है कि चुनाव में मुख्यमंत्री के गृह क्षेत्र में ही उनके पुत्र को हार का मुंह देखना पड़़ा। अब चूंकि स्थानीय निकायों के चुनाव होंगे और इसके बाद पंचायतों व जिला परिषद के चुनाव होंगे, उसमें भी लोग इंतजार करके बैठे है कि कब चुनाव हो और कब कांग्रेस से बदला लें। स्थानीय निकायों के चुनाव में भी और उसके बाद पंचायतों के चुनाव में भी। चुनाव में भाजपा की जीत तय होने का उन्होंने दावा किया। 

उन्होंने बताया कि सिरोही आने पर उन्हें पता चला कि सिरोही नगर परिषद के भाजपा के चुने हुए सभापति व शिवगंज पालिका के अध्यक्ष पर विभिन्न आरोप लगाकर उन्हें पदच्यूत कर दिया। यह लोकतंत्र विरोधी कार्य है और भाजपा इसका घोर विरोध करती है। उन्होंने बताया कि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के कार्यकाल में प्रदेश में आपराधिक वारदातों में बारह फीसद की कमी आई थी, पर कांग्रेस सत्तासीन होने के बाद महज तीन माह में ही 28 फीसदी अपराध पढ़ गया। इनमें सर्वाधिक 43 प्रतिशत अपराध तो महिलाओं के मामले में ही बढ़े हैं। पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में भी मासूम से दुष्कर्म हुआ था, पर सरकार ने इसे संवेदनशीलता से लेकर तीन में ही आरोपी को फांसी के फंदे पर पहुंचा दिया। 

अपराध कम करने का काम सिर्फ पुलिस ही करती है, मंत्री तो महज मॉनीटरिंग करते हैं। अनुच्छेद-370 हटाने की कार्यवाही को केन्द्र की मोदी सरकार का साहसिक कदम बताया। उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर समस्या के निराकरण के लिए अनुच्छेद-370 को हटाना जरूरी था। पत्रकारों से बातचीत के दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष नारायण देवासी, विधायक समाराम गरासिया, पूर्व राज्यमंत्री ओटाराम देवासी, तारा भंडारी, वीरेन्द्रङ्क्षसह चौहान भी उपस्थित थे। 




Leave a comment