चलती ट्रेन से 8.48 किलो सोने के आभूषण लूटने के दो अरोपी गिरफ्तार

जागरूक टाइम्स 977 Apr 16, 2019

-गत 7 जनवरी को चलती ट्रेन बान्द्र्रा-उदयपुर में से लूटे थे करीब 2 करोड 75 लाख के आभूषण

-फरार आरोपियों की तलाश में जुटी जीआरपी

-पैसे वाले बनने की चाहत ने दिलवाया वारदात को अंजाम

आबूरोड। जीआरपी की टीम ने चलती बान्द्र्रा-उदयपुर ट्रेन से 8.48 किलो सोने के आभूषण लूटने के मामले का पर्दाफाश किया है। दो आरोपियों को मुंबई से गिरफ्तार किया गया। वहीं मामले से जुड़े फरार तीन आरोपियों की सरगर्मी से तलाश की जा रही है। वहीं गिरफ्तार किए दोनों आरोपियों को न्यायालय में पेश किया गया। जहां से दोनों को न्याायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया।

गत 7 जनवरी को चित्तोडग़ढ़ के क्षैत्राधिकार में चलती बान्द्रा-उदयपुर ट्रेन के स्लीपर कोच एस-4 में अज्ञात चोर परिवादी नरेन्द्र कुमार व विपुल रावल का बैग लूट ले गए थे। जिसमें करीब 2 करोड 75 लाख रुपए मूल्य के 8 किलोग्राम सोने के आभूषण थे। मामले की गंभीरता के चलते रेलवे पुलिस की अतिरिक्त महानिदेशक श्रीमती नीनासिंह व पुलिस अधीक्षक श्रीमती पूजा अवाना के आदेशानुसार प्रकरण खुलासें व अपराधियों की धरपकड़ के लिए विशेष टीम गठित की गई।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भोलाराम यादव के निर्देशन में वृत्ताधिकारी श्यामलाल मीणा व अजमेर जीआरपी थानाधिकारी रामअवतार चौधरी के नेत्तृव में जिला जीआरपी स्पेशल टीम प्रभारी एएसआई मनोज कुमार चौहान कांस्टेबल दिलीपसिंह, मानसिंह की टीम बनाई गई।

प्रकरण में हरसम्भव कामायाबी के लिए प्रयास किए गए। अनुसंधान के दौरान मुखबीर खास की सुचना पर वारदात अंजाम दिलवाने वाले दो आरोपी नरपत कुमार माली व दिनेश चौधरी को मुंबई से दस्तयाब किया गया। पूछताछ करने पर वारदात को अंजाम देना स्वीकार किया। इस पर दोनोंं को गिरफ्तार कर लिया गया। दोनो आरोपियों को न्यायालय में पेश करने पर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया।

मामला एक नजर
तीन माह पूर्व गत 8 जनवरी को मुबई की यश गोल्ड कंपनी में कार्यरत परिवादी नरेन्द्र कुमार व विपुल रावल ने रिपोर्ट दी थी कि 6 जनवरी 2019 को टं्रेन बान्द्रा-उदयपुर एक्सप्रेस के कोच एस-4 में बोरीवली से उदयपुर के लिए यात्रा कर रहे थे। यात्रा के दौरान चलती टे्रन में अज्ञात चोर बैग लूट ले गए। जिसके अन्दर 8 किलोग्राम सोने के आभूषण थे। जिनकी कीमत करीब 2 करोड ़ 75 लाख रूपए है। मामले की गंभीरता के चलते जीआरपी के चित्तोडग़ढ थानाधिकारी लालसिंह को जांच सौंपी गई।

मुखबीर की सूचना
प्रकरण की गम्भीरता के चलते रेलवे पुलिस की अतिरिक्त महानिदेशक द्वारा वृत्ताधिकारी श्यामलाल मीणा को अनुसंधान सौंपा गया। अनुसंधान के दौरान मुखबीर से सूचना मिली कि गत 7 जनवरी को चलती ट्रेंन बान्द्रा-उदयपुर में जो चोरी हुई है। उस वारदात में यश गोल्ड का कर्मचारी भी शामिल है।

सूचना विश्वसनीय होने पर टीम को मुम्बई रवाना किया गया। मुम्बई में टीम द्वारा पाली जिले के सेवाड़ी पुलिस थाना बाली व हाल पालघर मुम्बई निवासी नरपत कुमार माली (24) पुत्र देवाराम व पाली जिले के फालना के खुड़ाला हाल यश गोल्ड कंपनी निवासी दिनेश कुमार चौधरी (22) पुत्र मगाराम चौधरी को दस्तयाब कर थाने लाया गया।

स्वीकार किया जुर्म
जीआरपी चित्तोडग़ढ के थानाधिकारी, उदयपुर, मावली जंक्शन व जीआरपी थाना कोटा की टीम बना कर प्रकरण खुलासे के प्रयास किए गए। पूछताछ करने पर दोनों आरेापियों ने वारदात को अंजाम दिलवाना स्वीकार किया। इस पर उन्हें गिरफ्तार किया गया। दोनों आरोपियों को न्यायालय में पेश किया गया। जहां से दोनों को न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया।

पैसे वाले बनने की चाहत
पुलिस पूछताछ में दोनों आरोपियों ने स्वीकार किया की पैसों की तंगी थी। इसी के चलते काफी पैसा बनाने की ललक के चलते वारदात को अंजाम दिया गया। नरपत माली ने दिनेश चौधरी से बात की कि अपन काफी पैसे वाले बनते है। जिसके चलते दोनों ने शॉर्टकट अपना लिया।

घर का भेदी लंका ढाए नौकर ही निकला सूचना देने वाला
पुलिस पूछताछ में सामने आया की दिनेश चौधरी यश गोल्डी कम्पनी में कार्यरत है। जिसको पता रहता है की यश गोल्ड कम्पनी से कब-कब ओर किस शहर में कौनसी ट्रेन से कर्मचारी सोने के आभूषण लेकर जाता है। दिनेश चौधरी ने अपने दोस्त नरपत माली को बताया कि 6 जनवरी को 2019 को ट्रेन बान्द्रा-उदयपुर एक्सप्रेस के कोच संख्या एस-4 में यश गोल्ड कम्पनी के विपुल रावल व नरेन्द्र कुमार सोने के आभूषण लेकर उदयपुर जाएंगें। यह बात नरपत माली ने वारदात दिलवाने के लिए उसके दोस्त पाली जिले के देसूरी हाल सेवाड़ी निवासी दीपक जोशी को दे दी। जिसने अपने 5-7 दोस्तों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया। 8.48 किलो सोने के आभूषण बैग सहित चलती ट्रेन में से लूट लिए।

पाली,जालोर व सिरोही जिले से जुड़े तार
मामले के तार पाली, जालोर व सिरोही से जुड़े हुए है। जीआरपी के अनुसार पाली जिले के देसूरी हाल सेवाड़ी निवासी दीपक जोशी उर्फ दीपिया, जालोर जिलके भीनमाल दांतीवास निवासी सुरेश कुमार पुत्र लादूराम, सिरोही जिले के कैलाश नगर मालियो का वास निवासी लक्ष्मण कुमार माली उर्फ लक्ष्मण देवड़ा फरार है। तीनों आरोपी शीघ्र ही पुलिस गिरफ्त में होंंगे।

शातिर बदमाश
पाली जिले के बाली थोन के देसुरी हाल सेवाड़ी निवासी दीपक जोशी सुमेरपुर जिला पाली का बहुत शातिर बदमाश है जिसके खिलाफ मारपीट, फायरिंग व लूट के प्रकरण दर्ज है। जोशी हर बार अलग-अलग लड़कों, व्यक्तियों को टीम में शामिल कर वारदात बड़ी वारदात को अंजाम दिलवाता है।

आबूरोड में दबिश में आरोपी फरार
दीपक जोशी के आबूरोड में होने की सूचना पर जीआरपी टीम द्वारा गत 12 अप्रेल की रात एक व दो बजके बीच गांधीनगर स्थित दीपक जोशी की महिला मित्र के घर पर दबिश दी गई। इस दौरान आरोपी दीपक जोशी अपनी कार ब्रेजा आरजे 22 बीजी 5712 सहित फरार हो गया। जिसकी तलाश सरगर्मी से की जा रही है।

मिले कुछ गहने,दस्तावेज व कार बरामद
दबिश के दौरान चोरी गए माल के कुछ गहने, दीपक जोशी की एक महाराष्ट्र नम्बर की स्वीफ्ट कार व वारदात के बाद अपनी प्रेमिका को दिलवाए गए प्लॉट के कागजात बरामद किए गए। दीपक जोशी ने उसके 5-7 अन्य साथियों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया है। जिनकी तलाश जारी है।

इनका रहा योगदान
प्रकरण खुलासे में मुख्य भूमिका निभाने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों का अहम योगदान रहा है। जीआरपी उदयपुर के वृताधिकारी श्यामलाल मीणा,जीआरपी अजमेर के निरीक्षक रामअवतार चौधरी, अजमेर जिले के स्पेशल टीम के प्रभारी एएसआई मनोज कुमार चौहान, जीआरपी अजमेर के कांस्टेबल दिलीप सिंह, मानसिंह, नरौत्तम शर्मा, रूपसिंह व जीआरपी रतलाम के उपनिरीक्षक शिवसिंह धाखड़ का प्रकरण के खुलासे में महत्वपूर्ण भूमिका रही।

दो आरोपी गिरफ्तार
प्रकरण में दो आरोपियों को मुंबई से गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में दोनों ने अपराध स्वीकार किया है। न्यायालय ने दोनों आरोपियों को न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया है। मामले में फरार तीनों आरोपियों की सरगर्मी से तलाश की जा रही है। शीघ्र ही तीनो आरोपी समेत वांछित अपराधी सलाखों के पीछे होंगे। -श्यामलाल मीणा, वृताधिकारी, उदयपुर वृत, जीआरपी।















Leave a comment