सवा माह बीत गया, पर नहीं लगा अता-पता

जागरूक टाइम्स 224 Aug 13, 2019

- सिरोड़ी से अचानक लापता हुए भगाराम के परिजनों का रो-रोकर हो रहा है बुरा हाल

जागरूक टाइम्स संवाददाता
सिरोही। सिरोड़ी निवासी भगाराम मेघवाल को लापता हुए करीब सवा माह का समय बीत गया, पर अभी तक उसका कोई अता-पता नहीं लगा। परिजनों ने अपने स्तर पर काफी खोजबीन की, पर उसका सुराग नहीं लगा। परिजनों में भाइयों व भाभियों का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा है। सबकी यही तमन्ना है कि भगाराम एक बार आ जाएं और अपने सुख-दुख की बात कर लें। अनादरा थाने में गुमशुदगी दर्ज करवाए भी बीस-पच्चीस दिन हो गए, पर पुलिस भी उसके बारे में कोई सुराग नहीं लगा पाई। 

दरअसल तिरेपन वर्षीय भगाराम करीब तीन दशक से मानसिक रूप से बीमार चल रहा था। घर की माली हालत बहुत अच्छी नहीं होने से आरम्भ में तो इलाज करवाया, पर बाद में बात आई-गई हो गई। फिर तो भगाराम की आदत बन गई कि रोजाना सुबह घर से निकल कर गली-मोहल्लों में घूमना। बच्चों को बड़े दुलार व प्यार से बुलाता। रफ्ता-रफ्ता भगाराम नन्हे-मुन्नों का चहेता बन गया। वे उससे बेपनाह प्यार करने लगे। कई बार तो घर से खाना लाकर भी खिलाते। फिर वह कई बार सिरोड़ी स्थित केवल बाग व पांच किलोमीटर दूर स्थित पावापुरी तीर्थधाम पहुंच जाता।

वहां उसके खाने का जुगाड़ हो जाता। शाम होते ही घर का रूख कर लेता। सोता अक्सर घर पर या अपने भाई के कृषि कुएं पर। गत 6 जुलाई को भगाराम सुबह घर से तो निकला, पर शाम को घर नहीं लौटा। परिजनों ने सोचा शायद कुएं पर चला गया होगा, पर जब दूसरे दिन भी नहीं लौटा तो उनकी चिंता बढ़ गई। परिजनों ने अपने स्तर पर उसकी खासी तलाश की, पर भगाराम का कोई अता-पता नहीं लगा। अंतत: 21 जुलाई को अनादरा थाने में गुमशुदगी दर्ज करवाई, जिसकी जांच हैड कान्सटेबल शांतिलाल को सौंपी गई।

पर, अचानक लापता हुए भगाराम को खोज निकालने में न तो परिजनों को और न ही पुलिस को कामयाबी मिल पाई है। उसके भाई नोनाराम ने बताया कि उसका सहोदर भाई उसे एक बार मिल जाएं और अपना सुख-दुख सुना दें। अब उनकी आस सिर्फ और सिर्फ पुलिस से बची है। उन्हें पूरा भरोसा है कि पुलिस के प्रयास जरूर रंग लाएंगे और उन्हें उनका खोया हुआ भाई वापस मिल जाएगा। उन्होंने बताया कि यदि उनके भाई के बारे में किसी को पता चलें और सूचना दें तो वह उनका उपकार कभी नहीं भूलेंगे। 



Leave a comment