फर्जी हथियार लाइसेंस मामले में बीकानेर का हिस्ट्रीशीटर जोधपुर में गिरफ्तार

जागरूक टाइम्स 204 Jun 20, 2018

जम्मू-कश्मीर और नागालैंड से बने फ र्जी हथियार लाइसेंस मामले में प्रदेश भर में चार दर्जन से अधिक हो चुकी है गिरफ्तारियां, जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट की पहली कार्रवाई

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स
जम्मू-कश्मीर और नागालैंड से हजारों फर्जी हथियार लाइसेंस मामले में जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट के बनाड़ थाने की टीम ने बीकानेर के एक हिस्ट्रीशीटर को गिरफ्तार किया है। पुलिस उसे रिमांड पर लेकर अब फर्जी लाइसेंस से जुड़ी अन्य कडिय़ों के बारे में पता लगाने में जुटी है।

पुलिस उपायुक्त पूर्व डॉ. अमनदीपसिंह कपूर ने बताया कि बनाड़ पुलिस टीम ने गत 20 फरवरी 2016 को नांदड़ाकलां निवासी बंशीलाल विश्नोई पुत्र लाखाराम को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से एक महंगी रिवाल्वर और 50 कारतूस जब्त किए थे। इस प्रकरण में बंशीलाल ने नागालैंड के दीमापुर कलक्टर द्वारा जारी एक हथियार लाइसेंस पेश किया था और बाद में इसी के आधार पर उसने रिवाल्वर और कारतूस कोर्ट से वापस छुड़वा लिए थे। मगर पुलिस को उस लाइसेंस के फर्जी होने का संदेह हुआ। इस पर बनाड़ थानाधिकारी जोगेंद्रसिंह की टीम को लाइसेंस की सच्चाई पता लगाने के निर्देश दिए गए। एसआई कैलाश पंचारिया को नागालैंड के दीमापुर भेजा गया। 

पुलिस की पड़ताल में सामने आया कि बनाड़ के नांदड़ाकलां गांव का रहने वाला बंशीलाल कभी दीमापुर गया ही नहीं था। उसने फर्जी तरीके से लाइसेंस हासिल किया और उसमें खुद का पता दीमापुर के मारवाड़ी पटी लिखवाया था। कई महीनों की मशक्कत के बाद दीमापुर पुलिस कमिश्नर ने उस पते की जांच कराने के बाद बंशीलाल का हथियार लाइसेंस निरस्त करने के आदेश दिए। इस पर बंशीलाल का रिवाल्वर व कारतूस बनाड़ थाने में जमा कर लिए। इसके साथ ही बंशीलाल से पूछताछ में पता चला कि उसने यह लाइसेंस बीकानेर के नया शहर थानांतर्गत रामपुरा बस्ती निवासी हिस्ट्रीशीटर ओमप्रकाश जाट पुत्र दुर्गाराम के मार्फत बनवाया था। पुलिस टीम ने सोमवार को हिस्ट्रीशीटर ओमप्रकाश जाट को गिरफ्तार कर लिया। इससे पहले बनाड़ पुलिस ने शहर के सभी 36 गन हाउस मालिकों और कमिश्नरेट की लाइसेंसिंग शाखा से भी जानकारी हासिल की लेकिन फिलहाल इनमें नागालैंड के किसी लाइसेंसधारक की जानकारी सामने नहीं आई है।

4 लाख में एक लाइसेंस बनवाता
बनाड़ थानाधिकारी जोगेंद्र सिंह के अनुसार ओमप्रकाश जाट अमूमन वो एक हथियार का लाइसेंस बनवाने के लिए चार लाख रुपए लेता था। इस तरीके से उसने प्रदेश में तकरीबन 14-15 हथियारों के लाइसेंस बनवा कर दिए थे। इनमें जोधपुर के बंशीलाल के अलावा बीकानेर, उदयपुर व नागौर के कई लोग भी शामिल है। ओमप्रकाश यह पूरा काम रामकुमार स्वामी के जरिए गिरोह के मास्टर माइंड बीकानेर के ही गंगाशहर निवासी भंवरलाल ओझा से बनवाता था। भंवरलाल पिछले 25- 30 साल से नागालैंड के दीमापुर में ही रहता है।

Leave a comment