दादी को बचाने के लिए पोते चिल्लाते रहे, गांव के ही युवकों ने कर दी थी हत्या

जागरूक टाइम्स 292 Oct 10, 2021

जोधपुर. डांगियावास थानान्तर्गत रूड़कली गांव के दो युवकों ने अपने दो-तीन अन्य साथियों के साथ मिलकर छत के रास्ते गुरुवार तड़के एक मकान में सेंध लगाई थी। घर में सो रहे वृद्ध दम्पती व पौत्र जागे तो चोरों ने वृद्धा पर हमला कर दिया था और गला व कैमिकल लगे रूमाल से मुंह-नाक दबा कर हत्या कर दी थी। एक पौत्र ने अपने अन्य भाइयों को फोन कर मदद के चिल्लाते रहे, लेकिन फिर भी बदमाशों का दिल नहीं पसीजा और वे चाबी छीनने के बाद अलमारी से लाखों के जेवर व रुपए चोरी कर भाग गए थे। थानाधिकारी कन्हैयालाल का कहना है कि वारदात में गांव के ही दो युवक शामिल थे। इनके साथ डांगियावास के दो-तीन और भी थे। रूड़कली निवासी एक जने को हिरासत में लिया गया है। अन्य की तलाश के प्रयास किए जा रहे हैं।

चाबी छीनने पर हुआ था प्रतिरोध
रूड़कली निवासी रवि सरगरा ने एफआइआर में बताया कि दादा सोनाराम व दादी शांतिदेवी पड़ोस में अलग मकान में सोए थे। साथ में पौत्र शनि भी था। गुरुवार तड़के 2.30 बजे छत के रास्ते गांव के ही सुनील पुत्र भंवरलाल सरगरा व विक्रम पुत्र नरसिंहराम सरगरा के साथ दो-तीन अन्य घर में घुसे थे। आवाज होने पर तीनों जाग गए थे और चोरों का विरोध करने लगे थे। एक युवक ने वृद्धा को पकड़ लिया और नीचे गिराकर गला व मुंह दबा दिया था। उसने वृद्धा से अलमारी की चाबी छीन ली थी। वृद्ध व पौत्र ने विरोध किया तो उनके साथ भी मारपीट की गई। पौत्र रवि ने फोन कर पड़ोस में रहने वाले चचेरे भाई रवि को मदद के लिए बुलाया। तब सभी भाग गए थे। दोनों पौत्र अपनी दादी शांतिदेवी को लेकर मथुरादास माथुर अस्पताल पहुंचे, लेकिन चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया था।

तैयारी से आए थे सभी बदमाश
भागने के दौरान एक बदमाश का मोबाइल घर में ही गिर गया था। जांच के दौरान कैमिकल लगा रूमाल व हाथ के दस्ताने भी वहां मिले। जिन्हें एफएसएल जांच के लिए कब्जे में लिए गए हैं। इससे अंदेशा है कि चोरी के लिए सभी पूरी तैयारी से आए थे। गांव के ही सुनील व विक्रम सरगरा साथ थे। अन्य युवक डांगियावास के बताए जाते हैं।

Leave a comment