राजमाता के बारहवें का उठावना : उम्मेद भवन में हुई पाग दस्तूरी रस्म

जागरूक टाइम्स 671 Jul 12, 2018

- पूर्व राजमाता कृष्णा कुमारी के उठावणे में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सहित कई लोग हुए शामिल

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स

जोधपुर राजघराने की पूर्व राजमाता व पूर्व सांसद कृष्णा कुमारी का उठावणा गुरुवार को उम्मेद भवन पैलेस में आयोजित किया गया। इस दौरान उठावणा में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सहित कई लोग शामिल हुई। मुख्यमंत्री कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जयपुर से जोधपुर आई। उम्मेद भवन पैलेस में उठावणा के साथ ही पाग दस्तूरी रस्म में राजपरिवार के सदस्यों के शोक में पहने जा रहे साफों के रंग को बदला गया।

पूर्व राजमाता व पूर्व सांसद कृष्णा कुमारी के निधन के बाद गुरुवार सुबह उम्मेद भवन में पाग दस्तूरी रस्म में हिस्सा लेने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे जोधपुर पहुंची। एयरपोर्ट से वे सीधे उम्मेद भवन पैलेस में पहुंची। यहां पूर्व नरेश गजसिंह व राजपरिवार के अन्य सदस्यों से मुलाकात की और एक बार फिर पूर्व राजमाता के निधन पर शोक जताया। उन्होंने स्वर्गीय कृष्णाकुमारी के बारहवें के उठावने पर आयोजित शोक सभा में शिरकत कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। साथ ही राज परिवार के सदस्यों को ढांढस बंधाया। राजे के साथ पंचायतीराज मंत्री राजेन्द्र राठौड़ भी जोधपुर पहुंचे है।

साफों के रंग को बदला

उठावणा के दौरान पाग दस्तूरी रस्म में राजपरिवार के सदस्यों के शोक में पहने जा रहे साफों के रंग को बदला गया। बता दे कि पूर्व राजमाता कृष्णाकुमारी के निधन के बाद राजपरिवार के सदस्य बारह दिन तक शोक के प्रतीक रंगों का का साफा बांधे हुए रहे। गुरुवार को उनको दूसरे रंग का साफा बंधवाया गया। शोक के दौरान जिनके पिता नहीं है, वे सफेद रंग व जिनके पिता जीवित है वे खाकी साफा पहने हुए रहे। दोनों साफे का रंग बदलवा गुलाबी साफा बंधवाया गया। पूर्व नरेश गजसिंह के ससुराल कश्मीर के पूंछ राजघराने से रिश्तेदार जोधपुर और सबसे पहले पूर्व नरेश के साफे का रंग बदलवाया गया। फिर पुत्र शिवराज सिंह और अन्य लोगों के साफों के रंग बदलवाने की रस्म अदा हुई। इसके बाद उम्मेद भवन के पोर्च के बाहर उठावणा हुआ। वहां पूर्व राजमाता की तस्वीर पर पुष्पांजलि के साथ शोक सभा समाप्त की गई। इस शोक सभा में शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री जोधपुर आई थी। इससे पहले वे राजमाता के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए भी जोधपुर आई थी। उम्मेद भवन से मुख्यमंत्री खाद बीज निगम के चेयरमैन शंभूसिंह खेतासर के यहां गई और उनकी बहन के निधन पर शोक जताया।

उम्मेद भवन में पहली बार हुई रस्म

उम्मेद भवन बनने के बाद उसमें पहली बार पाग दस्तूरी रस्म आयोजित की गई। मारवाड़ के पूर्व राजघराने में अंतिम बार शोक और पाग का रंग बदलने का दस्तूर राइकाबाग पैलेस में हुआ था। गत 28 नवंबर 1975 को पूर्व राजदादी बदन कंवर भटियाणी का निधन हुआ था। शवयात्रा राइकाबाग से निकली और जसवंतथड़ा पर अंतिम संस्कार हुआ था। इंटैक जोधपुर चैप्टर संयोजक डॉ. महेंद्रसिंह तंवर ने बताया कि राइकाबाग पैलेस में ही तापड़ रखी थी और उठावणे के दौरान शोक तोडऩे व पाग का रंग दस्तूर हुआ था। 1952 में पूर्व नरेश हनवंत सिंह की मृत्यु होने पर घंटाघर में तापड़ रखी थी और यह रस्म वहीं पर निभाई थी।

Leave a comment