रेगिस्तान में खजूर करेगा किसानों को मालामाल

जागरूक टाइम्स 463 Jun 20, 2018

जोधपुर  @ जागरूक टाइम्स 
 देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों की आय दुगनी करने में लगे है। इस बीच राजस्थान के रेगिस्तान में किसानों को एक नई सौगात मिली है। रेगिस्तान में लगे खजूर के पेड़ अब किसानों को मालामाल करने जा रहे हैं। चार साल पहले काजरी की ओर से शुरू की गई मेहनत अब रंग लाती दिखाई दे रही है।

जोधपुर स्थित केंद्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान (काजरी) से किसानों के लिए एक खुशखबरी आयी है। रेगिस्तान की हलक सूखा देने वाली गर्मी और 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चलने वाली आंधी के बीच काजरी ने खजूर की बंपर पैदावार कर डाली है। रेगिस्तान के टीलों में बीच उपजे एडीपी-1 टाइप के खजूर धूम मचा रहे है।

इस साल एडीपी-1 का पिछले साल की तुलना में दुगना उत्पादन हुआ है। गत वर्ष खजूर के 150 पौधे से 1500 किलो खजूर का उत्पादन हुआ था, जो इस साल बढ़कर दुगुना यानी तीन हजार किलो हो गया है। काजरी के निदेशक ओपी यादव ने बताया कि वह दिन दूर नहीं जब खजूर से रेगिस्तान के किसानों की आय चार से पांच गुना बढ़ जाएगी।

दुगुना हुआ उत्पादन
दरसअल गुजरात के कच्छ क्षेत्र को खजूर का हब माना जाता है। वर्ष 2014 में काजरी संस्थान ने गुजरात से 150 पौधे लाकर जोधपुर स्थित अपने फार्म में लगाए। गुजरात की आंणद यूनिवर्सिटी और बीकानेर शुष्क बागवानी संस्थान के साथ मिलकर काजरी ने टिश्यू कल्चर की तकनीक से खजूर का उत्पादन शुरू किया। चार साल की मेहनत से काजरी में खजूर के पेड़ों पर खजूर के बड़े बडे गुच्छे लटक रहे है। वहीं इस अच्छी पैदावार को देखने अब जनप्रतिनिधि भी आने लगे है।

दूसरी बड़ी सफलता
काजरी को सीरियन वैरायटी से अपेक्षित परिणाम नहीं मिले थे, लेकिन एडीपी-1 से भरपूर उत्पादन हुआ है। मारवाड़ की जलवायु में इस किस्म ने कमाल कर दिया है। एडीपी-1 की काजरी की दूसरी बड़ी सफलता है। काजरी के बेर के बाद अब काजरी के खजूर भी देशभर में मशहूर होते जा रहे है।

Leave a comment