सूर्यनगरी में नजर आने लगी जातरूओं की रेलमपेल

जागरूक टाइम्स 202 Sep 1, 2018

- लोक देवता बाबा रामदेव की भक्ति में डूबा मारवाड़, राम रसोड़े भी लगने लगे

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स

लोक देवता बाबा रामदेव के जातरूओं की रेलमपेल अब सूर्यनगरी में नजर आने लग गई है। हर तरफ बाबा रामसा पीर की जय के जैकारे सुनाई दे रहे हैं। बाबा के जैकारे लगाते हुए आगे जातरू आगे बढ़ रहे हैं।

ज्यों-ज्यों लोक देवता रामसापीर के मेले का दिन नजदीक आ रहा है जातरूओं का रेला शहर में उमडऩे लगा है। हजारों जातरू पैदल, बाइक, बस व रेल और अन्य वाहनों से जोधपुर पहुंच रहे हैं। मसूरिया पहाड़ी और उसके आसपास जहां देखो जातरूओं का सैलाब नजर आ रहा है। पाली और बनाड़ रोड़ की तरफ से देश के विभिन्न भागों से जातरूओं का आना जारी है। पूरा शहर भक्तिमय हो गया है। जगह-जगह राम रसोड़े खुल गए है। जातरूओं की चाय, नमकीन, फल आदि से आवभगत की जा रही है। जातरूओं के लिए चिकित्सा की भी माकूल व्यवस्था की गई है। छात्रावासों, धार्मिक स्थलों पर जातरूओं के नहाने धोने की व्यवस्था की गई है। पूरे शहर में एक, दो, तीन, चार.. बाबा थ्हारी जय-जयकार की गूंज सुनाई दे रही है। साथ ही जगह जगह बाबा रामदेव के भजन गूंज रहे हैं।

जोधपुर में मेला 11 को

जोधपुर में बाबा के प्राकट्योत्सव के उपलक्ष्य में 11 सितम्बर को मेला भरेगा, लेकिन अभी से बाबा के भक्तों के पहुंचने का दौर शुरू हो चुका है। रोजाना तीस से चालीस हजार लोग बाबा के दर्शन करने जोधपुर पहुंच रामदेवरा को प्रस्थान कर रहे हैं। जगह-जगह पर जोधपुर शहर के लोग रामरसोड़े लगा कर बाबा के भक्तों की खातिरदारी में जुटे हैं। लोकदेवता बाबा रामदेव के जैसलमेर जिले के रामदेवरा में स्थित मंदिर में दर्शन करने वाले सभी भक्त (जातरु) जोधपुर में पहले उनके गुरु गुंसाई बालीनाथ की समाधि पर शीश नवाजने के पश्चात आगे बढ़ते हैं। यही कारण है कि इन दिनों जोधपुर पूरी तरह से बाबा की भक्ति में डूबा नजर आ रहा है। 

251 फीट लम्बी ध्वजा

अजमेर के संथाणा से 251 फुट लंबी ध्वजा के साथ रवाना हुआ संघ शनिवार को जोधपुर पहुंचा। इस ध्वजा को 5 कारीगरों ने आठ दिन मे तैयार किया है। 75 मीटर कपङ़े से तैयार इस ध्वजा को बनाने मे 21 हजार रूपए खर्च हुए है। यह संघ 28 अगस्त को अजमेर से रवाना हुआ था और दस दिन में 450 किलोमीटर का सफर तय कर रामदेवरा दर्शनार्थ पहुंचेगा।

Leave a comment