उदयपुर के सफेद टाइगर की किडनी खराब, खाना-पीना छोड़ा

जागरूक टाइम्स 170 Aug 10, 2018

- उपचार के लिए जोधपुर के डॉ. राठौड़ को स्पेशल ऑर्डर पर बुलाया

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स

उदयपुर सज्जनगढ़ जंतुआलय में सफेद टाइगर रामा की किडनी खराब होने की सूचना ने राज्य सरकार की नींद उड़ा दी। टाइगर को बबेसी ओसिस नामक बीमारी होने से उसने खाना-पीना छोड़ रखा है। सरकार ने बीमार टाइगर का उपचार करने के लिए जोधपुर वन विभाग के पशु चिकित्सक डॉ. श्रवण सिंह राठौड़ को स्पेशल ऑर्डर पर उदयपुर बुलाया है। पिछले तीन दिन से लगातार टाइगर की देखरेख होने से उसकी सेहत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है।

जोधपुर वन अधिकारियों का कहना है कि सज्जनगढ़ जंतुआलय में एक साल पहले बेंगलुरू से लाया गया 6 वर्षीय सफेद टाइगर रामा को किडनी से संबंधित बीमारी है। स्थानीय पशु चिकित्सकों द्वारा उपचार करने के बाद मुख्यालय के निर्देश पर टाइगर विशेषज्ञ व पशु चिकित्सक डॉ. श्रवण सिंह राठौड़ को तीन दिन पहले उदयपुर भेज दिया गया है। उधर, उदयपुर वन अधिकारियों ने बताया कि पशु चिकित्सक टीम द्वारा सफेद टाइगर रामा के 6 अगस्त को ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए लैब भेजे गए हैं। टाइगर का बेहतर उपचार करने के लिए स्थानीय टीम के साथ जोधपुर से पशुचिकित्सक डॉ. राठौड़ व जयपुर के डॉ. माथुर को भी बुला लिया गया है।


बबेसी ओसिस घातक बीमारी 

जोधपुर के डॉ. श्रवण सिंह राठौड़ ने बताया कि सफेद टाइगर रमा को बबेसी ओसिस नामक गंभीर बीमारी है। यह बीमारी फैलने से टाइगर के किडनी खराब होने की संभावना है। यह घातक बीमारी है। इसी वजह से पिछले कुछ दिनों से टाइगर ने खाना-पीना छोड़ रखा था। फिलहाल, चौबीस घंटे टाइगर पर नजर रखी जा रही है। अब लिक्विड सूप के साथ टाइगर थोड़ा-थोड़ा ठोस खाना भी ले रहा है। गौरतलब है कि जोधपुर वन विभाग के डॉ. राठौड़ अब तक 19 पैंथर को पकड़ चुके हैं। इसके अलावा रणथंभौर से टाइगर टी-20 को उदयपुर शिफ्ट करने के लिए भी सरकार ने राठौड़ को ही भेजा था।

ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे ...

Leave a comment