सदी का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण आज रात, देखिए पूरी खबर...

जागरूक टाइम्स 522 Jul 27, 2018

- सूतक लगा, मंदिरों के कपाट बंद

- भारत समेत दुनिया भर में दिखेगा, 3.55 घंटे का रहेगा ग्रहण, लाल रंग का दिखेगा चंद्रमा

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स

साल 2018 का दूसरा और सदी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण शुक्रवार रात को पड़ रहा है। यह ग्रहण रात 11.54 से शुरू होकर अगले दिन 28 जुलाई सुबह 3.49 तक रहेगा। यानी चंद्र ग्रहण की शुरुआत से अंत तक 3.55 घंटे का समय लगेगा, जबकी पूर्ण चंद्र ग्रहण 1.48 घंटे तक बना रहेगा। इस चंद्र ग्रहण में चंद्रमा लाल रंग का दिखेगा, जिसे ब्लड मून भी कहा जाता है। इस चंद्र ग्रहण को पूरे भारत में देखा जा सकेगा। भारत के अलावा यह चंद्र ग्रहण अफ्रीका, दक्षिण एशिया, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका में भी देखा जा सकता है। चंद्रग्रहण को लेकर सूतक भी शुरू हो गया है। सूतक लगते ही मंदिरों के कपाट बंद कर दिए गए।


खगोल वैज्ञानिकों के मुताबिक आज रात को चंद्रमा अपनी कक्षा में पृथ्वी से सबसे ज्यादा दूरी पर होगा, इस स्थिति को लूनर एपोजी कहा जाता है। पृथ्वी और चंद्रमा के बीच ज्यादा दूरी की वजह से ग्रहण भी देर तक रहेगा। इस साल 31 जनवरी को भी पूर्ण चंद्रग्रहण था। तब इसकी अवधि 1 घंटा 40 मिनट थी। सदी का सबसे छोटा चंद्रग्रहण 4 अप्रैल 2015 को हुआ था। इसका ग्रहण काल सिर्फ 4 मिनट 48 सेकंड था। अब 31 दिसंबर 2028 को अगला पूर्ण चंद्रग्रहण होगा। इससे पहले जुलाई 2000 और जून 2011 में भी पूर्ण चंद्रग्रहण हो चुके हैंं।

सूतक का रखा ध्यान

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस खग्रास चंद्रग्रहण का सूतक ग्रहण प्रारंभ होने के तीन प्रहर यानी 9 घंटे पहले लग गया। दोपहर 2 बजकर 54 मिनट पर सूतक प्रारंभ हो गया। सूतक लगते ही मंदिरों के कपाट बंद हो गए। गुरु पूजन के कार्यक्रम भी रुक गए। बता दे कि सूतक लगने के बाद कुछ भी खाना-पीना वर्जित रहता है। रोगी, वृद्ध, बच्चे और गर्भवती स्त्रियां सूतक के दौरान खाना-पीना कर सकती है। सूतक प्रारंभ होने से पहले पके हुए भोजन, पीने के पानी, दूध, दही आदि में तुलसी पत्र या कुशा डाल दें। इससे सूतक का प्रभाव इन चीजों पर नहीं होता।

स्पर्श रात 11.54 से

ग्रहण का स्पर्श 27 जुलाई को भारतीय समयानुसार रात 11 बजकर 54 मिनट पर है एवं ग्रहण मोक्ष 28 जुलाई को तड़के 3 बजकर 49 मिनट पर रहेगा। ग्रहण मध्य 28 जुलाई को तड़के एक बजकर 52 मिनट पर रहेगा। यह ग्रहण भारत सहित संपूर्ण यूरोप, एशिया, आस्ट्रेलिया, अफ्रीका, दक्षिण व उत्तर अमरिका, पेसिफिक महासागर, अेटलांटिक महासागर, हिन्द महासागर व अन्टार्कटिका में दिखाई देगा। विश्वभर के मुख्य शहर देखे तो टोकियो, ब्रसेल्स, लीरबन, लंदन, बुडापेस्ट, कैरो, अंकारा, जकार्ता, अेथेन्स, रोम, यान्गोन, मेडरीड, सिडनी, दिल्ली, मेलबोर्न, पेरिस, मास्को, बीजिंग, रीओ डीजानेरो व आर्जेन्टिना में दिखाई देगा।

ग्रहण में यह करें

चंद्र ग्रहण के बुरे प्रभाव से बचने के लिए घर में श्रीमदभागवत गीता का पाठ करना चाहिए। इसके अलावा दुर्गा चालीसा का पाठ कर सकते हैं। इसके साथ इस दिन गरीबों को दान देना चाहिए। दान में आटा, चीनी, दाल आदि दे सकते हैं। इसके अलावा जिन लोगों की कुंडली में साढ़ेसाती चल रही है तो उनको शनि मंत्र का जाप करना चाहिए।

Leave a comment