ढाई माह बाद एसीबी के हत्थे चढ़ा अधिकारी, वीजा अवधि बढ़ाने की एवज में ली थी घूस

जागरूक टाइम्स 172 Aug 2, 2018

- भारतीय नागरिकता दिलाने व वीजा अवधि में बढ़ोतरी के नाम पर घूस व कमीशन लेने का मामला

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स

भारतीय नागरिकता दिलाने व वीजा अवधि में बढ़ोतरी के नाम पर कमीशन लेने वाले मामले में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने करीब ढाई माह बाद राज्य के सचिवालय में गृह विभाग (चतुर्थ) में तत्कालीन सहायक अनुभाग अधिकारी कुन्दनलाल सहाय को गिरफ्तार कर लिया है। वह इतने दिनों से फरार चल रहा था।

एसीबी की स्पेशल यूनिट के डिप्टी जगदीश सोनी ने बताया कि एसीबी ने गत सत्रह मई को पाक विस्थापितों के दस्तावेजों को तैयार करने की एवज में रिश्वत लेने के मामले में गृह मंत्रालय के वरिष्ठ सचिवालय सहायक (एसएसए) पंकज कुमार मिश्रा के साथ जोधपुर में नेहरू नगर में रह रहे पाक विस्थापित नागरिक अशोक पुत्र मोहनलाल, डाली बाई मंदिर के पास अम्बेडकर नगर निवासी भगवानराम पुत्र जीवनराम व नेहरू नगर निवासी गोविंद पुत्र मेवोमल को गिरफ्तार किया था। उन पर पाक विस्थापितों से वीजा एक्सटेंशन व नागरिकता संबंधी दस्तावेजों को तैयार करने की एवज में रिश्वत लेने का आरोप था। उन सबको गिरफ्तारी और रिमांड अवधि के बाद अदालत के आदेश पर जेल भिजवा दिया गया था। इस मामले में राज्य के सचिवालय में गृह विभाग (चतुर्थ) में तत्कालीन सहायक अनुभाग अधिकारी कुन्दनलाल सहाय पुत्र हनुमान सहाय की मिलीभगत भी उजागर हुई थी। मामला उजागर होने के बाद वह फरार हो गया था। एसीबी उसकी तलाश में थी। गुरुवार को वह एसीबी के हाथ आ गया।

उल्लेखनीय है कि पाक विस्थापितों के वीजा अवधि में बढ़ोतरी और नागरिकता दिलाने संबंधी दस्तावेज तैयार करने की एवज में रिश्वत व कमीशन लेने का खेल कई वर्षों से चल रहा था। एसीबी की गिरफ्त में आने वाले तीनों एजेंट भी पाक विस्थापित ही है जो अपने सम्पर्कों से पाक विस्थापितों को रुपए देने के लिए तैयार करते थे। ये कुछ राशि स्वयं रखते और बड़ी राशि अधिकारियों तक पहुंचाते थे। ज्यादातर पाक विस्थापितों से पंद्रह-पंद्रह हजार रुपए की राशि लेना सामने आया था।

Leave a comment