जेल में अश्लील फिल्में देख रहे कैदी, मोबाइल में मिली पॉर्न फिल्में और फोटोज

जागरूक टाइम्स 674 Jul 10, 2018

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स

जेल के भीतर बंद कैदी मोबाइलों में अश्लील फिल्में देख रहे है। तलाशी अभियान के दौरान कैदियों के पास मिले मोबाइलों में पॉर्न फिल्मों के साथ अश्लील फोटोज मिले हैं। पिछले दिनों प्रदेशभर की जेलों में मारे गए छापे में यह सच सामने आया है। 

प्रदेश की जेलों में बंद बंदियों के पास मोबाइल मिलना आम बात हो गई है, लेकिन इन मोबाइल फोनों में अब अश्लील वीडियोज और पॉर्न फिल्म भी मिल रही हैं। हालांकि जेल विभाग प्रदेश की जेलों में मोबाइल फोन के प्रयोग को पूरी तरह से बंद करने के दावे कर रहा है। जयपुर और जोधपुर जेल में लगे जैमर फेल हो चुके हैं। यहां कैदी अब 4जी मोबाइल यूज कर रहे हैं, जबकि जैमर 2जी मोबाइल के लिए लगे हुए हैं।

सबसे आगे जयपुर सेंट्रल जेल 

प्रदेश की जेलों में पिछले कुछ सालों इतने मोबाइल फोन और सिम मिले हैंं कि किसी बड़े शोरूम में भी इतने फोन नहीं होंगे। जेल विभाग के अनुसार पांच साल में प्रदेश भर करीब पांच सौ मोबाइल फोन मिले हैंं। इनमें स्मार्ट फोन भी शामिल है। साथ ही सात सौ से अधिक मोबाइल सिम भी मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा मोबाइल फोन और सिम जयपुर सेंट्रल जेल से बरामद हुए हैं। उसके बाद जोधपुर का नंबर आता है।

जेल मैनुअल में जिक्र तक नहीं

जेल अफसरों के अनुसार बंदियों से मोबाइल मिलने के मामले में उनको सजा दी जाती है, लेकिन बंदियों को सजा के नाम पर पंद्रह दिन से महीने भर तक के लिए मुलाकात बंद की सजा जाती है। उसके बाद भी फोन का प्रयोग हो तो उसकी जेल मजदूरी काट ली जाती है। उसके बाद भी फोन मिले तो भी कोई बड़ी कार्रवाई नहीं होती। अफसर परेशान भी है क्योंकि जेल मैनुअल में मोबाइल फोन का जिक्र तक नहीं है, ना ही सजा का कोई प्रावधान है। 

अब फोर जी का सहारा

ऐसा नहीं है कि सरकार प्रदेश की जेलों में मोबाइल फोन का प्रयोग पूरी तरह से बंद करने के लिए प्रयास नहीं कर रही, लेकिन सरकार के प्रयास बंदियों से कहीं पीछे है। सरकार ने साल 2011 में 2जी जैमर लगाने की टेंडरिंग की, कुछ लगे लेकिन काम नहीं आए। साल 2013 में इन जैमरों को 3जी करने की बात सामने आई, कुछ हुए भी, लेकिन बंदियों ने उस प्रयास पर भी पानी फेर दिया। अब सभी सेंट्रल जेलों और कुछ बड़ी जिला जेलों में 4जी जैमर लगाने का प्रस्ताव चल रहा है। बजट भी मिल गया है। अब इसके बाद भी जेलों में मोबाइल का प्रयोग होता है या नहीं यह देखने वाली बात है।

Leave a comment