अब 750 रुपए नहीं, फ्री में मिलेगी यात्री को पीएनआर से जुड़ी जानकारी

जागरूक टाइम्स 206 Jul 24, 2019

जोधपुर (ईएमएस)। रेलवे ने यात्रा पूरी होने के बाद पीएनआर से जुड़ी जानकारी देने व सत्यापन करने के लिए अपने नियमों के साथ शुल्क में भी बदलाव किया है। कोई यात्री अपने ही पीएनआर के बारे में जानकारी मांगेगा तो उसे कोई शुल्क नहीं देना होगा। दूसरे व्यक्ति के बारे में जानकारी मांगी जाएगी तो उस व्यक्ति से सहमति मिलने के बाद ही रेलवे जानकारी उपलब्ध करवाएगा। कोई सरकारी विभाग अपने कर्मचारी की यात्रा के बारे में जानकारी मांगेगा तो उसे 50 रुपए देने होंगे। इसी तरह सुरक्षा व जांच एजेंसियों के लिए यह सुविधा नि:शुल्क रहेगी। अभी रेलवे ने प्रति पीएनआर का शुल्क 750 रुपए तय कर रखा था।

दरअसल रेलवे ने 1994 में पीएनआर संबंधी जानकारी मुहैया करवाने के लिए शुल्क में बदलाव किया था। उसके बाद दो बार नियम-कायदे भी बदले गए। कई लोग सूचना का अधिकार में पीएनआर की जानकारी चाह रहे थे, जो कायदे से रेलवे को 10 रुपए फीस के साथ आवेदन पर देनी चाहिए। लेकिन नियम 750 रुपए शुल्क का होने के कारण ऐसे मामले सूचना आयोग तक पहुंच रहे थे। अब रेलवे ने तय किया है कि यदि कोई व्यक्ति इस तरह आवेदन करता है तो उसे नाम व जन्मतिथि दर्शाने वाला पहचान पत्र देने पर नि:शुल्क जानकारी दी जाएगी। आरटीआई के माध्यम से ही किसी दूसरे व्यक्ति की यात्रा के बारे में जानकारी चाहने पर उस व्यक्ति से रेलवे सहमति मांगेगा। सहमति मिलने पर ही रेलवे इस तरह की जानकारी दूसरे के साथ शेयर करेगा।

रेलवे की ओर से ट्रेन के चार्ट की प्रतिलिपि देने का भी प्रावधान किया हुआ है। ट्रेन चलने से पहले बनकर तैयार हुए चार्ट को प्रति पेज 1 हजार रुपए शुल्क के हिसाब से दिया जाता है। ट्रेन का सफर पूरा होने के बाद टीटीई की ओर से यात्री के सफर करने या नहीं करने जैसी सूचना के साथ अन्य विवरण अंकित किया जाता है। इसे वर्किंग चार्ट कहते हैं जो रेलवे में जमा होता है। इस चार्ट की प्रतिलिपि भी दी जाती है, जिसमें प्रति पीएनआर 750 रुपए शुल्क तय है। एक पेज में जितने पीएनआर होंगे, उसका शुल्क उनकी गणना 750 रुपए से कर शुल्क लिया जाता है।


Leave a comment