अदालतों में सुचारू हुआ न्यायिक कार्य

जागरूक टाइम्स 198 Jun 26, 2018

- वकीलों की हड़ताल खत्म होने पर पक्षकारों ने ली राहत
जोधपुर @जागरूक टाइम्स

उदयपुर में राजस्थान हाईकोर्ट की सर्किट बैंच स्थापित करने के लिए कमेटी गठित करने के विरोध में जोधपुर के वकीलों की हड़ताल खत्म होने के बाद मंगलवार से वापस अदालतों में न्यायिक कार्य सुचारू हो गए। वकील गत 21 माह से हड़ताल पर थे। दोनों एडवोकेट्स एसोसिएशनों ने सोमवार को हड़ताल समाप्ति की घोषणा की थी। वकीलों की हड़ताल के समर्थन में कचहरी परिसर में बैठने वाले स्टांप वेंडर, कंप्यूटर संचालक व टाइपिस्ट आदि ने भी अपने संस्थान बंद कर रखे थे। यहां तक कि हाईकोर्ट कैंपस में स्थित चाय की थडिय़ां और कैंटीन तक बंद थी। वे भी आज खुल गई।

हाईकोर्ट की उदयपुर में सर्किट बेंच बनाने के विरोध में गत चल रही अधिवक्ताओं की हड़ताल सोमवार को जनरल हाउस की मीटिंग में हुए हंगामे के बाद खत्म कर दी गई थी। हालांकि हड़ताल समाप्ति से ठीक पहले वकील दो धड़ों में बंट गए थे। हड़ताल को जारी रखने को लेकर बहस के बाद वकीलों में हाथापाई हो गई थी।

हंगामे के बीच राजस्थान हाईकोर्ट एडवोकेट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष रणजीत जोशी ने पिछले 21 मई से चल रही हड़ताल को स्थगित करने की घोषणा कर दी थी। उन्होंने कहा कि अगर भविष्य में उदयपुर सर्किट बैंच की मांग को लेकर कोई आदेश या कार्यवाही सरकार द्वारा की जाती है, तो आंदोलन को पुन: प्रारम्भ कर दिया जाएगा तब तक न्यायिक कार्यों के बहिष्कार को स्थगित किया जाता है। 

गौरतलब है कि गत शुक्रवार को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने वकीलों के प्रतिनिधिमंडल से स्पष्ट कहा था कि किसी तरह की कमेटी गठित नहीं की है और जोधपुर के हितों के साथ कोई कुठाराघात नहीं होगा। इसके बाद वकीलों ने हड़ताल खत्म करने का मानस बना लिया था। वकीलों की हड़ताल के चलते हाईकोर्ट के साथ जिला एवं सत्र न्यायालय तथा 40 से अधिक अधीनस्थ न्यायालय में न्यायिक कार्य बुरी तरह प्रभावित हो रहा था। दूर दराज से आने वाले मुव्वकिल को इससे परेशानी उठानी पड़ रही थी। अन्य जरूरी न्यायिक कार्य भी इस हड़ताल के कारण से प्रभावित हुए। वकीलों की हड़ताल समाप्त होने से अब सभी अदालतों में न्यायिक कार्य सुचारू हो गए है।

Leave a comment