जोधपुर में बारिश ने बरपाया कहर, एक घंटे तक मूसलाधार बारिश

जागरूक टाइम्स 1408 Jul 19, 2018

- होटल की दीवार गिरने से छात्र की मौत

- पानी के बहाव में बही कारें, पानी में डूबी रेल पटरी

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स
लंबे इंतजार के बाद जोधपुर में गुरुवार शाम को मूसलाधार बारिश हुई। इस बारिश के कारण पावटा स्थित एक होटल की दीवार गिर गई। जिसके नीचे दबने से एक छात्र की मौत हो गई। बारिश के पानी के तेज बहाव के कारण कार सहित कई वाहन बह गए। वहीं रेलवे स्टेशन पर भी रेल पटरियां पानी में डूब गई। बारिश और घने बादलों के कारण यहां शाम को ही अंधेरा छा गया।

जोधपुर शहर में दिनभर उमस में पसीना-पसीना हो रहे शहरवासियों को शाम को राहत मिली। शाम 4.30 बजे से लेकर 5.30 बजे तक एक घंटे मूसलाधार बरसात हुई। तेज हवा के साथ तूफानी बौछारों से पनाळे फूट पड़ी। सड़कोंं पर एक फीट तक पानी की चादर चलने लगी। कई निचले इलाकों में पानी भर गया। दुपहिया वाहन फंस गए। तेज बरसात के बाद पूरा शहर जाम हो गया। सड़कों पर बह रहे पानी से कई लोग सड़कों पर ही फंस गए। भीतरी शहर में बरसाती पानी का बहाव इस कदर तेज था कि कई दुपहिया वाहन पानी में बहने लगे। अजीत कॉलोनी में खड़ी दो कारें पानी में डूब गई।

शाम को ही छा गया अंधेरा शाम को शहर में काले घने बादलों के कारण अंधेरा छा गया और पहली बार पूरे शहर में एक साथ जोरदार बारिश हुई। थोड़ी देर में ही सड़कों पर हर तरफ पानी बहना शुरू हो गया। सोजती गेट पर तेज बहाव के कारण कई कारें पानी के साथ बहकर नाले में जा गिरी। वहीं स्टेशन पर पटरियां पूरी तरह से पानी में डूब गईं। सड़कों पर चलने वाले वाहनों को शाम को ही हैडलाइट जलानी पड़ गई। यहां साढ़े चार बजे जोरदार बारिश शुरू हो गई। पूरे शहर में मौसम की पहली झमाझम के साथ लोगों के चेहरे खिल उठे।

थोड़ी देर में ही सड़कों पर पानी बहना शुरू हो गया। कई स्थानों पर घुटनों तक पानी बहने लग गया। सोजती गेट के भीतर पुलिस चौकी के सामने खड़ी रहने वाली कई कारें इस बहाव में बह कर नाले में जा गिरीं। एक कार तो पूरी तरह से नाले में फंस गई। इससे पानी का मार्ग भी अवरुद्ध हो गया। इस कार से टकरा कर दो अन्य कारें बाहर ही अटक कर रह गई। रेलवे स्टेशन पर भी अंदर व बाहर पानी भर गया। बाहर घुटनों तक पानी बह रहा है तो अंदर पटरियां पूरी तरह से पानी में डूब गईं।

दीवार गिरने से छात्र की मौत
तेज बारिश के कारण पावटा स्थित होटल मैपल अभय डेज के पार्किंग की दीवार भरभरा कर गिर गई। दीवार के साथ ही वहां लगा पेड़ भी नीचे गिर गया। इससे वहां खड़े तीन छात्र मलबे के नीचे दब गए। तीनों छात्र कोचिंग पढ़कर घर लौट रहे थे। तब बरसात शुरू हो गई। बरसात से बचने के लिए वे पेड़ के नीचे खड़े हो गए थे।

शाम करीब साढ़े 5 बजे पेड़ अचानक गिर गया। पेड़ के दबाव से पास की दीवार भी ढह गई। पेड़ व दीवार के नीचे तीनों छात्र दब गए। सूचना पाकर आपदा दल मौके पर पहुंचा और पेड़ व दीवार के नीचे दबे छात्रों को बाहर निकाला। जिसमें से एक की मृत्यु हो गई, दो घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया।

एक घंटे में बरसा दो इंच से ज्यादा पानी
यहां एक घण्टे में 56 मिलीमीटर बरसात दर्ज की गई। इसके बाद रुक-रुक कर बरसात होती रही। शहर के ग्रामीण हिस्सों में भी हल्की से लेकर तेज बरसात हुई। लूणी में 31 मिमी पानी बरसा। झमाझम बारिश से कस्बा तरबतर हो गया। भोपालगढ़ में 12, ओसियां में 19, बालेसर व बावड़ी में दो-दो, शेरगढ़ में 8 और बापिणी में 7 मिमी बारिश मापी गई। मौसम विभाग के अनुसार अगले चौबीस घण्टे तक थार के कुछ पॉकेट्स में भारी बरसात की चेतावनी बरकरार है।

मौसम विभाग का कहना है कि मानसून की अक्षीय रेखा उत्तर-पश्चिमी राजस्थान, उत्तरी मध्य प्रदेश, झारखंड और गंगीय पश्चिम बंगाल के से होकर फैली हुई है। एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र मध्य पाकिस्तान और इससे सटे पंजाब पर स्थित है। एक अन्य चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण गुजरात और इससे सटे पूर्वोत्तर अरब सागर पर बना हुआ है। इस कारण पश्चिमी राजस्थान में अच्छी बारिश हुई है।

Leave a comment