भाजपा का आरोप- कांग्रेस ने की संकल्प पत्र की नकल

जागरूक टाइम्स 435 Nov 29, 2018

- शेखावत ने कहा : नकल में नहीं लगाई अक्ल

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स

कांग्रेस द्वारा जारी किए गए जन घोषणा पत्र को भाजपा ने अपने संकल्प पत्र की नकल बताया है।केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण राज्य मंत्री और राजस्थान विधानसभा चुनाव संचालन समिति के संयोजक गजेन्द्रसिंह शेखावत ने कहा कि कांग्रेस ने चुनावी घोषणा पत्र बनाने के दौरान भाजपा के संकल्प पत्र की नकल की लेकिन उसमें अक्ल नहीं लगाई जिसके चलते उन्होने भाजपा के जनहितकारी मुद्दों को अपने घोषणा पत्र में जारी किया। कांग्रेस के घोषणा पत्र के मुख्य बिंदुओं को यदि देखें, तो उनमें से अधिकांश विषय ऐसे हैं, जिन पर या तो पहले ही राज्य व देश की सरकार काम कर चुकी है या वे काम प्रक्रियाधीन हैं, लगभग पूरे हो चुके हैं।

शेखावत ने गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस ने भाजपा के संकल्प पत्र जारी होने के चार दिन बाद घोषित किए अपने जन घोषणा पत्र में अधिकांश मुद्दे और वादे भाजपा से जुड़े हुए मुद्दों और विषयों में कांटछांट कर जनता के सामने पेश कर उनको गुमराह करने का प्रयास किया है जबकि भाजपा की राज्य और केन्द्र की सरकार ने अपने घोषणा पत्र में आम जनता और विशेषकर किसानों के लिए उन्होने कोई कमी कसर नहीं छोड़ी। अब कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी सरकार बनने के दस दिन बाद किसानों को ऋण से मुक्त कराने का जुमला पकड़ाकर अपने पक्ष में करने का प्रयास करके जनता के साथ धोखा कर रहे है।

शेखावत ने कहा कि केवल 2016 में खरीफ फसल के आंकड़े आपके साथ साझा करना चाहता हूं। 1694 करोड़ रुपए का क्लेम राजस्थान के 25.32 लाख किसानों को केवल 2016 के फसल चक्र में मिला था। राजस्थान के किसानों को पिछले दो साल के इस फसल बीमा में हम पहले ही 4000 हजार करोड़ से ज्यादा का बीमा क्लेम भुगतान कर चुके है। देश का किसान इस अम्बरेला कवरेज से संतुष्ट है। साथ ही इस प्रक्रिया को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए, आने वाले प्रक्रियाधीन विषय को ठीक करने के लिए भारत सरकार ने पहले ही निर्णय ले लिया है। यदि कंपनी बीमा का भुगतान सही समय पर नहीं करती, तो उस पर पेनल्टी 12 फीसदी प्रतिवर्ष की दर से ब्याज किसान के खाते में जाएगा। इसका प्रावधान सरकार पहले ही कर चुकी है। कांग्रेस से मैं पूछना चाहता हूं कि किस तरह कि फसल बीमा योजना वे बनाना चाहते हैं, इसका खुलासा करें। केवल शगूफे छोडऩे की आदत से उन्हें बाज आना चाहिए।

वहीं प्रेस वार्ता में शेखावत ने कहा कि कांग्रेस ने घोषणा पत्र में लिखा है कि वे एमएसपी पर खरीद की प्रक्रिया को ठीक करेंगे। 1950 करोड़ रुपए की क्रेडिट गारंटी के साथ में गेहूं और चावल के अलावा बाकी सभी एमएसपी फसलों पर खरीद का काम देश की सरकार अटलजी के समय करती थी। कांग्रेस ने 10 साल में उसे बढ़ा कर 2950 करोड़ रुपए की के्रडिट गारंटी दी थी। 2014 में मोदी सरकार ने इसे बढ़ाकर 4500 करोड़, फिर 9000 करोड़, 19 हजार करोड़, 29 हजार पांच सौ करोड़ और वर्तमान में 45 हजार करोड़ रुपए की क्रेडिट गारंटी नेफेड को फसलों की खरीद सुनिश्चित करने के लिए दी है।

राजस्थान गौरव संकल्प पत्र में इस बात की घोषणा थी कि हम अगले पांच साल में कॉरपेटिव सेक्टर में एक लाख करोड़ रुपए के ऋण का प्रावधान करेंगे। कांग्रेस ने घोषणा पत्र में असान ऋण प्रदान करेंगे, ऐसी एक लाइन लिख कर छोड़ दिया। भरत सरकार पहले ही 11 लाख करोड़ की एग्रीकल्चर एडवांसेज की परिकल्पना कर चुकी है। अब सरकार की डिक्लेयर्ड नीति पर कांग्रेस ने एक वाक्य किस औचित्य से लिखा है। कांग्रेस ने एक और बात अपने घोषणा पत्र में कही है कि हम ट्रैक्टर को त्रस्ञ्ज से मुक्त कर देंगे। कांग्रेस ने एक देश एक कर की अवधारणा को चुनौती देने का काम किया है।

Leave a comment