जैसलमेर के सोनू से हमीरा की 300 करोड की रेल लाइन हुई पूरी

जागरूक टाइम्स 488 Dec 21, 2019

जैसलमेर : पिछले दो दषक से जैसलमेर रेलवे स्टेषन के विकास में आडे आ रहा सोनू लाइम स्टोन अब खदानों से सीधे ही मालगाडी में भरा जाएगा। लाइम स्टोन की वजह से सर्वाधिक कमाउ जैसलमेर रेलवे स्टेषन पर अब तक खास विकास कार्य नहीं हो पाए है। इसकी वजह से यहां से लाइम स्टोन की रोजाना होने वाली ढुलाई है। यहां से संचालित होने वाले ट्रेनें हो या फिर प्लेटफार्म सफेद चादर ओढे रहते है। अब इन सबसे निजात मिलने वाली है। करीब तीन साल पहले हमीरा व सोनू के बीच नई रेल लाइन बिछाने का काम शुरू हुआ था। करीब साढे तीन साल में यह काम पूरा हो चुका है। 300 करोड की लागत से 56 किमी रेल लाइन बिछाई गई है। इसके तहत अब मालगाडी हमीरा से सीधे ही सोनू पहुंचेगी, जहां लाइम स्टोन की ढुलाई होगी। शुक्रवार को सोनू हमीरा के बीच बिछाई गई नई रेल लाइन पर इंजन ट्रायल हुआ । सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक ट्रायल हुआ । उप मुख्य इंजीनियर बलदेवराम ने कहा कि सब कुछ ठीकठाक रहा तो आगामी कुछ ही दिनों में यह लाइन शुरू कर दी जाएगी।

हमीरा से सोनू के बीच 56 किमी लाइन बिछाई गई है। करीब साढे तीन साल में यह काम पूरा हुआ है। इस मार्ग पर कुल 64 ब्रिज बनाए गए है जिसमे 15 अंडर ब्रिज है। यह रेल लाइन हमीरा से जेठवाई, पोहडा, काठोडी, लाणेला, मोकला होती हुई सोनू पहुंची है। इसमें एक मात्र लाणेला को फिलहाल स्टेषन बनाया गया है जहां मालगाडी का ठहराव होगा। जिले के सोनू क्षेत्र के आसपास ही सीमेंट ग्रेड लाइम स्टोन के अथाह भंडार है। पूर्व में आवेदन मांगे गए तो करीब 286 आवेदन आए थे, उसके बाद उन्हें रद्व कर दिया गया। पहले सीमेंट फैक्ट्रियां यहां आने में कतरा रही थी। अब सोनू तक रेल लाइन होने से सीमेंट फैक्ट्रियों की राह भी आसान हो जाएगी। इस क्षेत्र में नहर भी है और लाइम स्टोन, साथ ही साथ रेल लाइन की पहुंच भी।

जैसलमेर रेलवे स्टेषन पर चाहे जितनी भी साफ सफाई की जाए, कुछ ही देर में लाइम स्टोन की ढुलाई से उडने वाली धूल से सफेद परत जम जाती है। अब रेलवे स्टेषन को इससे निजात मिलेगी और यहां ढुलाई का काम बंद हो जाएगी। रेलवे स्टेषन का विकास भी हो सकेगा और रूप भी निखरेगा। फोटो कैप्षन - सोनू हमीरा के बीच बिछाई गई नई रेल लाइन पर इंजन ट्रायल हुआ ।


Leave a comment