एक साल के बाद भी नहीं मिली श‎हीद की प‎त्नि को नौकरी

जागरूक टाइम्स 598 Feb 19, 2020

झुंझुनूं (ईएमएस)। पुलवामा हमले के बाद सेना की जवाबी कार्रवाई में शहीद हुए झुंझुनूं के खेतड़ी क्षेत्र के टीबा गांव के रहने वाले श्योराम के प‎रिवार को एक साल बीत जाने के बाद भी सरकार की ओर से सहायता नहीं हो पाई है। शहीद की पत्नी को नौकरी नहीं मिली है। वीरांगना को राजस्थान रोडवेज का पास तक नहीं जारी किया गया है। शहीद श्योराम के परिवार में उनकी पत्नी सुनीता और उसके दो बेटे खुशांक व दुर्जांश हैं। श्योराम के शहीद होने के बाद एक ओर जहां टीबा में मंत्रियों का आना हुआ तो लगा कि श्योराम की शहादत को सम्मान देने में शायद ही सरकार कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी, लेकिन एक साल बाद भी मंत्रियों की घोषणा के बावजूद उन्हें नियुक्ति नहीं मिली है।

वीरांगना सुनीता बताती है कि केंद्र और राज्य सरकार से जो आर्थिक सहायता मिलती है, वह तो मिल चुका है। उन्होंने कहा कि अभी तक सम्मान की बात करें तो सबकुछ अधूरा है। वहीं जिस गति से सरकार काम कर रही है, लगता नहीं कि उन्हें आने वाले दिनों में भी सम्मान मिल पाएगा। बता दें ‎कि स्थानीय विधायक ने शहीद स्मारक में 10 लाख रुपए देने की घोषणा की थी, जो अधूरी है। सुनीता ने बताया कि मेरे घर तक पीने का पानी तक नहीं पहुंचा है। स्कूल का नामकरण तक नहीं हुआ है। खेतड़ी के एसडीएम ने कहा ‎कि नौकरी देने में कोई अड़चन नहीं है और उन्हें जल्द ही मिल जाएगी। वहीं शहीद स्मारक और शहीद के घर तक की सड़क की बात है तो इंटरलॉकिंग का प्रस्ताव पास हो चुका है। इसके अलावा पीने के पानी के लिए भी सारी तैयारियां हो चुकी हैं।


Leave a comment