झुंझनू में शहीद के अंतिम संस्कार के बाद बेहोश हुईं गर्भवती पत्नी

जागरूक टाइम्स 956 Feb 20, 2019

झुंझनू । राजस्थान के झुंझनू में आर्मी हवलदार शियो राम को बुधवार को पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। पुलवामा में आतंकियों का सामना करते हुए शहीद हुए शियो राम के अंतिम संस्कार में हजारों आंखें नम थीं। शहादत की त्रासद खबर को सुनने के बाद से ही किसी तरह खुद को संभाले हुए गर्भवती पत्नी पति के अंतिम संस्कार के बाद बेहोश हो गईं। जिसकी वजह से उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा। उनका हास्पिटल में उपचार किया जा रहा है।

शहीद की पत्नी नौ महीने की गर्भवती हैं और दस दिनों के बाद उनकी डिलिवरी की डेट तय है। मंगलवार को उन्हें पति की शहादत की सूचना मिली। खुद को हिम्मत बंधाए रखने के बावजूद अंतिम संस्कार के बाद उनका सब्र जवाब दे गया और वह बेहोश हो कर गिर पड़ीं। आनन-फानन में उन्हें स्थानीय हॉस्पिटल में ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उन्हें जयपुर के लिए रेफर कर दिया। चिकित्सकों के अनुसार उनकी हालत देखते हुए जल्दी डिलिवरी कराई जा सकती है।

शहीद के परिजन ने कहा शियो राम की पत्नी और मां को मंगलवार को उनकी शहादत की सूचना दी गई। पत्नी गर्भवती हैं, उनके पेट में दूसरा बच्चा पल रहा है और कभी भी डिलिवरी हो सकती है। उन्होंने खुद को संभाले रखा था, लेकिन अंतिम संस्कार के तुरंत बाद वह बेहोश होकर गिर पड़ीं। हम उन्हें जयपुर के हॉस्पिटल लेकर आए हैं, जहां हालत स्थिर है।

उनकी डिलिवरी तारीख अभी 10 दिन दूर है, लेकिन हालत को देखते हुए किसी भी समय डिलिवरी हो सकती है। पुलवामा के पिंगलिना में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों का सामना करते हुए शहीद हुए शियो राम पिछले 16 सालों से सेना में थे। वह 40 साल के थे और उनका एक 4 साल का बेटा है। शहीद का छोटा भाई भी सेना में ही है। सैनिक कल्याण मंत्री प्रताप सिंह खचरियावास शहीद के अंतिम संस्कार में शामिल हुए। उन्होंने शहीद के परिजनों को 50 लाख रुपए की राशि देने का वादा किया।


Leave a comment