बाढ़ में बह गई सुकड़ी नदी की रपट, अधिकारी अब तक बेपरवाह

जागरूक टाइम्स 706 Jul 8, 2018

बागोड़ा @ जागरूक टाइम्स

उपखंड क्षेत्र में गत वर्ष अतिवृष्टि एवं बाढ़ के हालात ने जहां आम जनजीवन को प्रभावित किया। वहीं कालेटी-लुणावास मार्ग पर सुकड़ी नदी में लाखों रुपए की लागत से निर्मित रपट टूट कर बह गई। अब हाल यह है कि नदी में जैसे पानी का बहाव होगा, आवागमन पूर्ण रूप से बंद हो जाएगा। हालांकि राहगीर व वाहनचालक यहां बीते एक साल से आवागमन में परेशानी का सामना कर रहे हैं और इससे सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारी भी वाकिफ है। लेकिन इसकी मरम्मत करने की जहमत नहीं उठा रहे। ऐसे में बारिश के दिनों में यहां बड़े हादसे की आशंका बनी हुई है।

दरअसल, उपखंड मुख्यालय से तेरह किलोमीटर दूर कालेटी गांव से भीनमाल जाने वाले सड़क मार्ग पर सुकड़ी नदी में कई वर्षों पूर्व लाखों रुपए खर्च कर रपट बनाई गई थी। ताकि बारिश के दिनों में सुकड़ी नदी में पानी का बहाव होने पर आवागमन बाधित होने से निजात मिल सके। इससे लोगों को खासी राहत मिली थी, लेकिन गत वर्ष जुलाई माह में अतिवृष्टि एंव बाढ़ के पानी में रपट टूटकर बह गई। उसके बाद आनन-फानन में आवाजाही सुचारू करने के लिए यहां मुरड़ डालकर आवागमन सुचारू करवाया गया। कहने को यहां नदी पर सुरक्षा दीवार का निर्माण किया गया है, लेकिन हकीकत यह है कि विभाग और ठेकेदार की लापरवाही से मरम्मत कार्य पूर्ण ही नहीं हो पाया है। ग्रामीण प्रवीण सिंह रावल ने बताया कि कई बार अधिकारियों को मौखिक व लिखित में सूचित करने के बाद नदी में महज सुरक्षा दीवार का निर्माण दो माह पूर्व करवाकर इतिश्री कर ली गई, लेकिन सुरक्षा दीवार के लिए खोदी खाई हादसे को दावत दे रही है। वहीं क्षतिग्रस्त रपट का निर्माण कार्य शुरू नहीं होने से नदी से गुजरने वलों के आमने-सामने आने पर साइड लेते समय वाहनों के गड्ढों में पलटने का अंदेशा बना रहता है। 

इनका कहना है

कालेटी-लुणावास के बीच नदी में सुरक्षा दीवार बना ली है, लेकिन अन्य जगह सड़कों का काम चलने से बजट में परेशानी आ रही है। दस पन्द्रह दिनों में रपट निर्माण करवा दिया जाएगा। 

- तेजाराम विश्नोई, सहायक अभियंता, सार्वजनिक निर्माण विभाग, भीनमाल

Leave a comment