70 लाख फिरौती के आरोपी को भीनमाल से सांचौर लाई पुलिस, फिरौती मामले में कई खुलासे

जागरूक टाइम्स 87 May 24, 2018
सांचौर : उपखंड क्षेत्र के पलाहदर सरहद से 3 मई को मुम्बई के कपड़ा व्यापारी को अगवा कर उससे 70 लाख की फिरौती वसूलने के मामले में भीनमाल पुलिस द्वारा गिरफ्त दुधु निवासी कमलेश जाट उर्फ कमल को प्रोडेक्स वारन्ट पर बापर्दा कर सांचौर पुलिस ने पुछताछ की जिसमें कई खुलासे किये। जानकारी के अनुसार 3 मई को मुम्बई के कपड़ा व्यापारी कोजा धोरिमन्ना निवासी मोहनलाल प्रजापत अपने फॉरचुनर गांड़ी से मुंबई जा रहा था । ईस दौरान सांचौर के पहलादर सरहद में कुछ बदमाशों ने उसको अगवा कर लिया। अपहरणकर्ता व्यापारी व उसके साथियों को एक स्कॉर्पियो वाहन में डालकर बाड़मेर व जैसलमेर जिले में घुमाते रहे। इस दौरान उसे जान से मारने का भय दिखाकर 70 लाख रुपए की फिरौती मांगी। जिसमें से 50 लाख रुपए की राशि दिल्ली में तथा 20 लाख रुपए की राशि मुम्बई में अपने साथियों को दिलवाई। इसके बाद 4 मई की रात को अपहरणकर्ताओं ने व्यापारी को पुन पलादर सरहद में गाड़ी सहित छोड़ा और फरार हो गए। व्यवसायी मोहनलाल की ओर से 5 मई को सांचौर थाने में में इस सम्बंध में प्रकरण दर्ज कराया गया था। जिस पर पुलिस अधीक्षक कल्याणमल मीणा के निर्देश में टीमों का गठन कर अनुसंधान के दौरान वारदात करने वाले आरोपितों का डाटा बेस तैयार कर पूर्व में 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर चूके है एवं अब गैंग के मुख्य आरोपी की पुलिस को तलाश है। कई दिनों तक व्यापारी की रैंकी - भीनमाल पुलिस द्वारा गिरफ्तार आरोपी कमलेश उर्फ कमल जाट ने पुलिस पुछताछ में बताया कि पूर्व में गिरफ्तार कोजा निवासी दिनेश बोला एवं व्यापारी का एक ही गांव था। वहीं व्यापारी के अपहरण कर लुटने की बात गैंग के मुख्य सरगना प्रकाश गोदारा को दिनेश बोला ने बताया। जिस दौरान मोहनलाल प्रजापत शांदियों में अपने घर आया हुआ था। जिसपर प्रकाश गोदारा ने कई दिनेश बोला व कमलेश उर्फ कमल जाट को मोहनलाल की रैंकी करने के लिए कहा गया। जहां पर दोनों ने कई दिनों तक व्यापारी की रैंकी की। मुबंई जाते अपहरण करना आरोपियों ने समझा उचित - कमलेश जाट व दिनेश बोला द्वारा कई दिनों तक व्यापारी मोहनलाल की रैंकी करते रहे। वहीं रैंकी के बाद जहां मोहनलाल जाता था वहां दोनों पिछे ही रहते एवं मुख्य आरोपी प्रकाश गोदारा को उनकी जानकारी देते रहते। वहीं कई दिनों की रैकी के बाद मौका नही मिलने पर उनको प्रकाश गोदारा ने बताया कि घर से वापिस मुंबई जाते समय अपहरण करना उचित रहेगा। जिसके बाद 3 मई को व्यापारी घर से मुबई रवाना हुआ तो कमलेश व दिनेश दोनो आरोपी आई 20 कार लेकर उसके पिछे - पिछे तक सांचौर आ गये। वहीं उसके बाद मोहनलाल सांचौर मेहता मॉर्केट में अपने रिश्तेदार के वहां चला गया तो उन्होंने जानकारी प्रकाश गोदारा को दी। जिसपर प्रकाश ने सांचौर से मुंबई रवाना होने तक इंतजार करने की बात की। वहीं फिर व्यापारी ज्योंही मुुंबई के लिए रवाना हुआ तो दोनों आरोपीयों ने प्रकाश को सुचना दी, तब प्रकाश ने मुनिम सांवलाराम देवासी को मोटरसाईकिल देकर दोनों के पास भेजा। जहां सांवलाराम को दोनो ने आई 20 कार दे दी । एवं मोटरसाईकिल पर दोनो सवार होकर उनके पिछे माखुपूरा चले गये। जहां उनके लिए एक डाईवर सहित एक अन्य आरोपी दुर्जनङ्क्षसह पुत्र श्यामसिंह जाति राजपूत निवासी खबडाला (बाड़मेर) सवार था। वहीं उसके बाद दोनों आरोपीयों ने बाईक माखुपूरा सांवलाराम के बताये अनुसार ढाबे पर रोक दी एवं स्कार्पियों गाड़ी में सवार हो गये। पहलादर तक उनका पिछा कर टोल नाके पर सुनसान हाईवे को देखकर आरोपियों ने स्कार्पियों गाड़ी फॉरचुनर के आगे डाल दी। एवं गाड़ी रोकते ही आरोपी दिनेश बोला उतरकर मोहनलाल की गाड़ी से चाबी निकालकर खुद उस गाड़ी में काबिज हो गया। आरोपी दुर्जनसिंह जैसलमेर के रास्ता का था जानकार - प्रकाश गोदारा ने स्कार्पियों कार में दुर्जनसिह राजपूत को साथ में भेजा जो जैसलमेर के रास्ता का जानकार था। वहीं आरोपियों ने मोहनलाल एवं उनके साथियों को फॉरचुनर गाड़ी में मुंह बांधकर सीट के निचे पटक दिया एवं हाईवे छोड़कर अन्दरूनी मार्ग सनावड़ा, जसाई, देरासर, हरसाणी, शिव, गडरा रोड़ से होते हुए फतेहगढ़ की तरफ ले गये। जहां पर उनके साथ मारपीट कर फिरोती की राशि मांग करने लग गये। वहीं ईस दौरान दो दिन तक दुर्जनङ्क्षसह राजपूत ऐसे क्षेत्रों मे घुमाता रहा जहां की सड़के अच्छी एवं सुनसान थी। जिससे किसी को पता नहीं चले वहीं दो दिन के बाद हवालों से राशि मिलने के बाद आरोपीयों ने पुन: व्यापारी मोहनलाल को फौजी रोड़ माखुपूरा सरहद में छोड़ कर आरोपी फरार हो गये । इन आरोपियों का हुआ खुलासा - पुछताछ में आरोपी कमलेश उर्फ कमल जाट ने बताया कि अपहरण के दौरान मेरे साथ दिनेश कुमार पुत्र गंगाविशन बिश्नोई निवासी कोजा, श्रवण पुत्र हरीराम जाति विश्नोई निवासी कोजा, धोलाराम पुत्र किशनाराम जाति विश्नोई निवासी कोजा, दर्जुनङ्क्षसह पुत्र श्यामङ्क्षसह जाति राजपूत निवासी खबडाला साथीयो के साथ अपहरण किया। जानकारी के अनुसार दिनेश कुमार पुत्र गंगाविशन निवासी कोजा जो पुलिस गिरफ्त में है।

Leave a comment