बागोड़ा मे विवादित चौराहे का मामला

जागरूक टाइम्स 161 May 24, 2018
बागोड़ा में विवादित सिणधरी चौराहे पर रवि सोमवार की रात में असामाजिक तत्वों ने महाराणा प्रताप की मूर्ति स्थापित कर महाराणा प्रताप चौराहे के नाम की नाम पट्टिका लगाने की सूचना सोमवार सुबह मिलते ही पुलिस व प्रशासन मौके पर पहुंचे और मूर्ति व नाम पट्टिका को कब्जे मे लिया गया है। पुलिस ने विवादित चौराहे पर असामाजिक तत्वों द्वारा आपसी वैमनस्य फैलाने के कृत्य पर अज्ञात लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर जांच शुरु की है। वही गांव के अनुसूचित जाति] जनजाति व ओबीसी के लोगों ने जिला कलक्टर बीएल कोठारी के नाम तहसीलदार सुमेरसिंह राजपुरोहित व पुलिस अधीक्षक के नाम डिवाईएसपी धिमाराम विश्नोई को अलग अलग ज्ञापन देकर विवादित चौराहे पर निषेधाज्ञा के बावजूद महाराणा प्रताप की मूर्ति व नाम पट्टिका स्थापित करने वाले असामाजिक तत्वों को गिरफ्तार करने की मांग की है। बागोड़ा उपखंड के राज्य राजमार्ग नंबर १६, और १६ को जोड़ने वाले सिणधरी चौराहे को लेकर पिछले साल से विवाद चल रहा है विवाद को लेकर एक पक्ष अंबेडकर चौराहा के नामकरण की मांग कर रहा है तो दूसरा पक्ष महाराणा प्रताप की । गौरतलब है कि चौराहे को लेकर पिछले वर्ष १३ अप्रैल की रात को अज्ञात लोगों ने चोराहे पर कलर करते हुए महाराणा प्रताप नाम लिख दिया थाड्ड नाम को लेकर दलित समुदाय ने आंदोलन करते हुए चौराहे का नामकरण अंबेडकर चौराहे करने की मांग रखी और उन्होंने अपनी मांग में बताया था कि पहले से ही यह अंबेडकर चौराहा है इसको लेकर पहले से ही प्रशासन में मामला पड़ा है वही चोराये से सम्बंधित विवाद को लेकर पुलिस थाने में एक मामला भी शौशल मिडिया पर जाति से अपमानित करने का दर्ज हैं। उपखंड मुख्यालय पर रविवार रात्रि को असामाजिक लोगों द्वारा इस विवादित सिणधरी चौराहे पर महाराणा प्रताप की मूर्ति व महाराणा प्रताप चौराहे की नाम पट्टिका स्थापित की गई। मूर्ति लगाने की खबर जैसे ही प्रशासन के प्रातः मिली तो थानाधिकारी प्रेमसिंह] तहसीलदार सुमेरसिंह राजपुरोहित मय जाब्ता के मौके पर पहुंच कार्रवाई करते हुए पुलिस बल के साथ चोराहे से मूर्ति को हटवा दिया तथा मूर्ति व पट्टिका को जब्त करते कब्जे मे ले लिया। पुलिस ने उसी समय चोराहे पर फिर से सफेद कलर पोत दिया। पुलिस के जवान विवादित चौराहे के आस पास मुस्तैद रहे। उक्त विवादित चौराहे पर महाराणा प्रताप की मूर्ति स्थापित करने की सवेरे अन्य लोगों को जानकारी मिलने पर दौपहर मे काला गौरा क्षैत्रपाल धर्मशाला में एसी एसटी व ओबीसी के लोग एकत्रित होकर रोष व भावना को ठेस पहुंचाने वाले अज्ञात असामाजिक तत्वों के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए उपखंड कार्यालय पहुंचे जहा कलक्टर के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौपते आपसी वैमनस्य व भावनाओं को भड़काने तथा जिला कलक्टर द्वारा उक्त चौराहे को विवादित मानते पूर्व मे निषेधाज्ञा जारी कर यथा स्थिति रखने के आदेश के बाद भी ऐसा कार्य करने वाले असामाजिक तत्व के दौषी लोगो को गिरफ्तार करने की मांग की है उन्होंने चेतावनी दी है कि दौ दिनो मे अज्ञात तत्वों को गिरफ्तार नहीं किया तो धरना दिया जाऐगा। इसके बाद पुलिस थाना में डिवाईएसपी धिमाराम व थानाधिकारी प्रेमसिंह को भी ज्ञापन देकर मामले का खुलासा कर आरोपियों को गिरफ्तार करने की गुहार लगाई है। थानाधिकारी प्रेमसिंह ने बताया कि असामाजिक तत्वों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया है और विवादित चौराहे पर रात मे स्थापित की महाराणा प्रताप की मूर्ति व नाम पट्टिका को हटवाकर जब्ती कर दी है। चौराहे के विवाद में दौ पक्षो के सोलह जने हुए थे छह माह के लिए पाबंद-- गत वर्ष अप्रेल माह में चौराहे के नामकरण को लेकर उपजे विवाद में बागोड़ा पुलिस ने शांति भंग होने की आशंका को लेकर पूर्व उपखंड अधिकारी कैशव मिश्रा के समक्ष इस्तगासा पैश करने पर सोलह जनो को नेक चलनी मे छह माह के लिए पाबंद किया गया था। जिसमें एक पक्ष के आठ व दूसरे पक्ष के ग्यारह युवको को पाबंद किया गया था।

Leave a comment