नि:शुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर में 395 मरीजों का इलाज

जागरूक टाइम्स 143 Aug 5, 2018

भीनमाल @ जागरूक टाइम्स

स्थानीय ब्रह्माकुमारी राजयोग केन्द्र में रविवार को दानदाता मंजूला देवी अशोककुमार संघवी के आर्थिक सहयोग से 111वां नि:शुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर का आयोजन जैन मुनि प्रसन्नदेव विजय महाराज व नन्दी सेन महाराज के सान्निध्य में हुआ। जिसमेें 395 मरीजों के आंखों की जांच की गई। 

शिविर का शुभारंभ अतिथियों की ओर से दीप प्रज्वलित कर किया गया। इस अवसर पर जैन संत प्रसन्नदेव विजय महाराज ने कहा कि मानव जीवन बड़ा ही अनमोल होता है। प्रत्येक मनुष्य को परमात्मा का ध्यान करना चाहिए, तभी उसके प्रगति का मार्ग प्रशस्त होगा। जैन संत ने कहा कि आज के वैज्ञानिक युग के साथ साथ सत्संग का भी सहारा लेना अति आवश्यक है। उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा जो सेवा का कार्य किया जा रहा है उससे हजारों लोगों की दुआ मिलेगी। उन्होंने कहा कि वर्तमान में व्यसन और फैशन का क्रेज बढ़ता जा रहा है। प्रत्येक मनुष्य फैशन और व्यसन से उपर नहीं उठ रहा है। उन्होंने कहा कि चातुर्मास के तहत उपवास करने से शरीर को कई तरह के फायदे होते हैं। जैन मुनि ने जैन धर्म के सिद्धांतों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हमें रात्रि भोजन नहीं करना चाहिए। रात्रि भोजन को वैज्ञानिक दष्टि से भी अनुचित माना गया है। उन्होंने मानव सेवा को महान बताते हुए कहा कि ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा किए जा रहे मानव सेवा के कार्य अनुकरणीय है। उन्होंने मानव सेवा में जैन धर्म के लोगों का सराहनीय सहयोग बताते हुए कहा कि जैन धर्म के लोग मानव सेवा के साथ साथ जीव मात्र की सेवा में कभी पीछे नहीं रहते हैं। 

बीके गीता बहन ने बताया कि शिविर में 40 मरीजों के आंखों की नि:शुल्क जांच कर ऑपरेशन के योग्य मरीजों को ग्लोबल नेत्र अस्पताल आबूरोड ले जाया गया। इस अवसर पर कुंदनमल जैन ,बाबूलाल कोठारी, नागरिक कल्याण मंच के अध्यक्ष माणकमल भंडारी व चंपालाल बाफना, नरपत लंगर, ओटमल बोहरा, सुरेश जालोरी, चंपालाल वर्धन, भंवरलाल वर्धन, भरत संघवी, गौतम संघवी, भंवर फोलामुथा, कांतिलाल, ललित संघवी, गुमानसिंह राव, लक्ष्मण भजवाड, बीके संध्या, कीर्ति, अंजली, सुरभि सहित जैन समाज के कई गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

Leave a comment