रामसीन : संदिग्ध अवस्था में महिला की मौत, इधर पीहर पक्ष ने लगाया हत्या का आरोप

जागरूक टाइम्स 553 Jul 4, 2020

रामसीन। पांच साल की मासुम बच्ची कोमल ने जैसा बताया की मे अपने भाई के साथ घर में थी उसी दौरान पापा मम्मी के बीच लड़ाई हो रही थी आंखो पर भार था नींद आ रही थी। इतने में अचानक पापा को गुस्सा आ जाता है मम्मी को मारने लगते है फिर जोर से गला दबा दिया अपनी मां के मौत का मंजर बंद कमरे में देख रहे थे। कुछ भी समझ नही आ रहा था की हो क्या रहा है फिर मां एक दम बोलना चिल्लाना एक दम खामोश रह गई..............फिर मासुम बच्ची अपनी मौसी की तरफ रो पड़ी दरअसल तवाव गांव में नरेश सैन निवासी बालेपा जिला बाड़मेर मशीन रिपेंरिग का कार्य करता था।

अपने परीवार के साथ यंही रह रहा था गुरुवार शाम आरोपी नरेश सैन व पत्नी लक्ष्मी के बीच में आपसी कहासुनी हूई। उसके बाद नेरश ने अपने दो बच्चों को नींद की टेबलेट देने के बाद पत्नी का गला घोट कर हत्या कर दी। इसी बीच पति-पत्नी के बीच हो रही लड़ाई को दोनों मासूम बच्चें देख रहें थे। मासूमों को क्या पता क्या वाक्या हो रहा है। उन्हे नही था पता की आज अपनी मां की आखिर दबी आवाज के बाद कुछ भी सुन ना पाएगें कुछ समय बाद खामोश मां को देखा को बच्चों ने मां को मृत पाया। कलयुगी बाप के छांए ने बच्चों को अनाथ कर दिया।

घटना की जानकारी मीलनें के बाद पुलिस थानाधिकारी सरीता बिश्नोई, हेडकोस्टेबल लादाराम, हंसाराम मय दल मौके पर पहूचकर मौका मुयायना करते हूए आवश्यक कारवाई की गई। वही भीनमाल डीप्टी कैलाश विश्नोई मौके पर पहूच कर मृतका के शव का पोस्टमार्ट करवाया गया। इधर लक्ष्मी के पीहर वाले भी अस्पताल पहूचनें कें बाद लगातार जांच की मांग करते रहे। पुलिस ने मामलें को गम्भीरंता से लेते हूए विभिन्न प्रताड़ीत करने व दहेज के लिए परेशान करने व हत्या के लिए एक से अधिक लोगों कें सम्मिलित होने के आधार पर दर्ज कर जांच शुरु कर दी है। पोस्टमार्टम के बाद मृतका के शव को ससुराल पक्ष व दो बच्चों को पीहर पक्ष को सुपूर्द कर दिया गया है।

बच्चों का खड़ा रह पाना मुश्कील हो रहा था
घटना के बाद शव को रामसीन सामुदायिक स्वास्थय केन्द्र पर पोस्टमार्टम के लिए लाया गया। तब मुतका के दो बच्चें गौरव ढाई वर्ष व कोमल पांच वर्ष को खड़े रहने रहने व आंखों पर भार होने के कारण खड़े नही रह पा रहे थे। मृतका की बहन केशव बीरा ने बताया की बच्चों को पुछने पर बताया की दोनों को टेबलेट दी गई थी जिसके बाद आंखो पर भार था लेकीन मां की सीखें सुनी थी....इतना कहकर बच्चेे रोने लग जाते है।

Leave a comment