जालोर काॅलेज के सामने दलदली गड्ढे में गर्भवती भैंस फंस गई

जागरूक टाइम्स 232 Jul 31, 2018

जालोर . कहते हैं कि कुछ घटनाएं ऐसी होती है कि सोचने को मजबूर करती है, परेशान करती है और काफी अटपटी भी होती है। उन्हीं में से एक घटना मंगलवार सुबह जालोर जिला मुख्यालय पर राजकीय काॅलेज के सामने घटित हुई। वीर वीरमदेव काॅलेज के सामने एक दलदल में गर्भवती भैंस फंस गई। काॅलेज के पास इतना बडा दलदली गड्ढा, एक बार तो इस सूचना को सुनते ही चौक गए। सवाल यह था कि काॅलेज के गेट के बाहर दलदल कैसे बन गया और भैंस के फंसने की घटना कैसे घटित हुई, लेकिन यह सत्य है। भैंस ऐसी फंस गई कि कई लोगों की ताकत भी उसे बाहर निकाल नहीं सकी।


आखिरकार जेसीबी को बुलाया गया और पास में ही एक खड्डा खोदकर दलदली पानी को फैलाया गया ताकि भैंस बाहर आ सके। इस वाकये बाद तो काॅलेज के छात्र और छात्राएं भी डर गए। यदि इस भैंस की जगह कोई विद्यार्थी गिर गया होता तो काफी मुश्किल हो जाती। लेकिन गनीमत रही कि कोई आदमी इसमें नहीं गिरा। वहीं कोई दुपहिया वाहन चालक इस दलदली गड्ढे में गिरता तो बडी समस्या हो सकती थी। इधर भैंस भी गर्भवती थी, जिससे उसके मालिक को उसकी चिंता सता रही थी। वो बार-बार कह रहा था कि उसकी भैंस गर्भवती है।


गौरतलब है कि काॅलेज के बाहर सडक के बिल्कुल किनारे एक गड्डा है, जिसमें पानी भरा हुआ है। लेकिन भैंस गिरने से पहले किसी को भी अंदाजा नहीं था कि इस गड्डे की इतनी गहराई है। साथ गड्डा दलदली बन चुका है। इतना कीचड है कि एक बार इसमें गिरने के बाद निकलना काफी मुश्किल है। मंगलवार सुबह भैंस काॅलेज के पास सडक किनारे चल रही थी, तभी वो गड्डे में गिर गई। उसके गिरने के बाद पता चला कि गड्डा इतना गहरा है। बाद में भैंस के आस-पास लोग एकत्रित हो गए और उसे बाहर निकालने के लिए जोरआजमाइश शुरू हो गई। लेकिन सफलता नहीं मिली। बाद में जेसीबी को बुलाया गया और फिर से मशक्कत शुरू की गई। दलदली गड्ढे के पास ही खुदाई षुरू की गई, ताकि भैंस को निकलने में आसानी हो सके। कुछ ही देर भैंस दलदली गड्ढे से बाहर आ गई। इसके बाद सभी को राहत मिली।

Leave a comment