नर्मदा नहर क्लोजर से जालोर जिले में जल संकट, जालोर शहर में भी 96 घण्टों में होगी जलापूर्ति

जागरूक टाइम्स 252 Jun 20, 2018

जालोर @ जागरूक टाइम्स

जिले में नर्मदा पेयजल आपूर्ति बन्द होने से 21 जून से जिलेभर में जल संकट जैसी स्थिति उत्पन्न हो सकती है। गुजरात में नर्मदा नहर में पानी क्लोजर प्रक्रिया शुरू करने से जिले में स्थिति विकट बन गई है। सैकड़ों गांवों में जल संकट खड़ा हो सकता है। हालांकि जलदाय विभाग ट्यूबवेल से जलापूर्ति करने पर फोकस किए हुए हैं। नर्मदा नहर के पानी को संजोए रखने का भी कोई विशेष ऑप्शन नहीं है। इधर जलदाय विभाग ने जालोर शहर की समस्त पेयजल आपूर्ति 48 घंटे के स्थान पर 72 से 96 घंटे के अन्तराल में करने की सूचना तक प्रसारित कर दी है।

क्या कहते हैं अधिकरी

जन स्वास्थ्य अभियान्त्रिाकी विभाग के सहायक अभियन्ता जितेन्द्र त्रिवेदी ने बताया कि जालोर शहर में वर्तमान में नर्मदा एवं स्थानीय विभागीय पेयजल स्त्रोतों द्वारा पेयजल आपूर्ति की जा रही है। जिसमे 21 जून से नर्मदा परियोजना सांचौर के द्वारा तकनीकी कारणों से घोषित क्लोजर लेने के कारण 21 जून से जालोर शहर की समस्त पेयजल आपूर्ति 48 घंटे के स्थान पर 72 से 96 घंटे के अन्तराल से की जाएगी।

यह है जलापूर्ति का समय बढऩे का कारण

गुजरात स्थित विभाग की ओर से नर्मदा नहर को लेकर क्लोजर की घोषणा की गई है। जिससे आगामी दस दिनों तक नर्मदा नहर में पानी की आवक नहीं होगी। जिससे जालोर समेत कई गांवों मेें जलापूर्ति का समय बढक़र 72 से 96 घण्टों तक हो जाएगी। हालांकि अभी तक यह स्थिति भी स्पष्ट नहीं है कि क्लोजर दस दिन तक रहेगा या फिर इससे अधिक बढ़ जाएगा।

Leave a comment