विकास क्षैत्र में 50 वर्ष पीछे मारवाड़ को विकास की कई सौंगातो का है इंतजार ...

जागरूक टाइम्स 226 Apr 16, 2019

मारवाड़ जंक्षन : पाली जिले की सबसे बड़ी पंचायत समिति मारवाड़ जंक्षन आज भी कई विषेष ज्वलंत समस्याओं से संघर्ष कर रह है, यहां पर पष्चिमी राजस्थान के एवं पाली जिले के एकमात्र जंक्षन स्टेषन के रूप में मारवाड़ जंक्षन की पहचान पुरे भारत देष में है। देष की आजादी के लगभग 72 वर्ष बीत जाने के बाद भी विकास के कुछ मुद्दे आज भी मारवाड़ को लगभग 50 वर्ष पीछे छोड़ रहे है मारवाड़ जंक्षन से मावली के लिए बड़ी लाईन का सपना बार-बार दिखाया जा रहा है, परन्तु यह सपना अब तक साकार होने का नाम नहीं ले रहा है.

विगत वर्ष 2018-19 के बजट में इस लाईन को ब्राॅडगेज में तब्दील करने के लिए करोड़ों रूपये की स्वीकृति व कार्य का सर्वे करने को लेकर टोकन मनी के रूप में 20 लाख रूपये की घोषणा भी हो चुकी थी। आखिर इस खुशी के मिलते ही मारवाड़ क्षेत्र की सरोकार एवं सक्रीय संस्था श्री साई दर्षन सेवा संस्थान ने तो मारवाड़ जंक्षन सहित विधानसभा क्षैत्र के गांवों में देषी घी के लड्डू भी वितरित कर खुषियां मना दी थी परन्तु आज भी खुषियों के लिए क्षेत्र के वाषिंदे तरस रहे है .

दो दिन पहले ही सोमवार को साई संस्था अध्यक्ष देवेन्द्र सिंह मीणा ने मावली जंक्षन में कार्यरत सीनियर सैक्षन इंजिनियर जगन्नाथ मीणा से मावली ब्राॅडगेज लाईन की जानकारी ली तो पता चला कि बजट में स्वीकृत 20 लाख रूपये तो सर्वे में ही खर्च हो गए उसके बाद अब तक कोई बजट नहीं आया रेलवे अधिकारी मीणा ने बताया कि मावली, बड़ी सादड़ी, नीमच व चित्तौड़गढ़ बेल्ड में तो रेल मंत्रालय द्वारा स्वीकृत योजनाओं का षिलान्यास भी हो चुका है व रेलवे विकास के कई आयामों को गति भी मिल चुकी है

जबकि मारवाड़ जंक्षन से मावली ब्राॅडगेज लाईन व मारवाड़ जंक्षन से गौरम घाट तक रेल बस सेवा तो ठण्डे बस्ते में ही पड़ी है, इसके पीछे क्या कारण रहे यह तो कोई नहीं जानता परन्तु बजट में घोषणा के बाद भी मारवाड़ क्षेत्र की जनता की सुविधाओं के नाम पर अब तक सपना पुरा नहीं हो रहा है।

जाडन स्टेट हाईवे 61 के मारवाड़ बाईपास संषोधन से ही विकास संभव
विगत कई माह से बन्द पड़े जोधपुर, ओसियां, सरदारसमन्द, जाडन, मारवाड़ जं., आऊवा, जोजावर स्टेट हाईवे 61 के जाडन से मारवाड़ जं. वाले मार्ग पर सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा पुनः कार्य शुरू हो चुका है, कार्य शुरू होते ही वाहन चालकों व हर वर्ग से जुड़े आमजन ने राहत की साहस महसूस की है, परन्तु इस स्टेट हाईवे योजना में बाईपास संषोधित करने को लेकर सार्वजनिक निर्माण विभाग के पीपीपी खण्ड जोधपुर के नवनियुक्त निदेषक जवरीलाल चैहान से श्री साई दर्षन सेवा संस्थान के अध्यक्ष देवेन्द्र सिंह मीणा की दुरभाष चर्चा हुई

चर्चा के दौरान मीणा ने सर्वप्रथम इस कार्य के प्रारम्भ होने को लेकर जिला कलेक्टर पाली उपखण्ड अधिकारी मारवाड़ जंक्षन व सार्वजनिक निर्माण विभाग आभार जताया। मीणा ने निदेषक को बताया कि इस योजना में मारवाड़ जंक्षन के बाईपास को मारवाड़ जंक्षन शहर से लगभग 4 किमी. पहले लिया गया है जो कि काफी दूर है देष के विभिन्न स्थानों से दु्रतगामी सीधी आवागमन करने वाली यात्री बसो व विषेषकर पार्सल सेवा से जुड़े वाहनों की दुरी इतनी दुर होने से आमजन को काफी परेषानी होगी।

दु्रतगामी बसो में यात्रा करने वाले यात्रीयों को मारवाड़ जं. छोर की ओर खारची, मारवाड़ जं., अखावास, लोलावास, दुदौड़, चिरपटिया, हेम.खुर्द ग्रामपंचायत सरहदों, श्री गजानन आश्रम, नरसिंहपुरा, चेलावास जैसे क्षेत्रों की ओर जाने के लिए सीधे उक्त गंतव्य स्थानों की ओर काफी परेषानी होगी उक्त स्थानों की ओर जाने के लिए मारवाड़ जं. बाईपास दुर होने की वजह से व लगभग 4 किमी. पहले ही एकांत व असुरक्षित स्थान पर उतरना पड़ेगा, विषेषकर महिलाओं व युवतियों को काफी भय बना रहेगा।

अकेली महिलाएं इतनी दुर से मारवाड़ क्षेत्र से जुड़े गांवों की ओर नहीं जा पाएगी दु्रतगामी व सीधी पार्सल सेवा व उद्योग व्यवसाय से जुड़े पार्सल जैसे सामान को बाईपास पर ही उतारना पड़ेगा इसलिए मारवाड़ जं. बाईपास का संषोधित किया जाना अतिआवष्यक है।दो रोड़ आॅवरब्रिज से वंचित रह जाएंगे।

देवेन्द्र सिंह मीणा ने अधिकारियों को बताया कि इस स्टेट हाईवे 61 की मारवाड़ जं. बाईपास योजना में दो रोड़ आॅवरब्रिज भी प्रस्तावित है जबकि देष की आजादी से लेकर अब तक मारवाड़ क्षेत्र के मारवाड़ जं., खारची व हेमलियावास खुर्द ग्रामपंचायत सरहदों से होते हुए रोड़ आॅवरब्रिज की मांग लम्बे समय से चल रही है यदि बाईपास को संषोधित किया जाता है तो उक्त तीन ग्रामपंचायतों दो रोड़ आॅवरब्रिज का लाभ मिल सकेेगा, मीणा ने बताया कि उक्त सभी सरहदों पर असिंचित जमीने है

जबकि वर्तमान बाईपास योजना में अनेक किसानों की सिंचित जमीनों के आने से उन किसानों के जीवन भर की रोजी रोटी जुड़ी हुई है वर्तमान बाईपास जहां से लिया गया है उस बाईपास से श्री गजानन्द आश्रम भी लगभग दो किमी. पीछे छूट गया है। यदि मारवाड़ जं. बाईपास को संषोधित नहीं किया गया तो तीनों ग्रामपंचायतों व उनसे जुड़े अनेक गांवों का विकास 50 साल और पीछे छूट जाएगा।

निदेषक जवरीलाल चैहान ने बताया कि यह प्रोजेक्ट विष्वबैंक से जुड़ा प्रोजेक्ट है इसलिए संषोधित करना हमारे अधिकार में नही है व हमारे विभाग के क्षेत्र अधिकार से भी बाहर है अधिकारी ने बताया कि फिर भी आमजन की भावनाओ व मांग को देखते हुए मैं स्वयं आकर उक्त क्षेत्रों का अवलोकन कर इस बाईपास संषोधन को लेकर नियमानुसार प्रयास करूंगा।

इन सुविधाओं की भी दरकार
मारवाड़ जंक्षन में नगरपालिका, अग्निषमन गाड़ी, पेयजल की मीठे पानी की वृहत्त योजना, महिला चिकित्स की नियुक्ति, औद्योगिक इकाईयों की स्थापना, लाॅ काॅलेज, आई.टी.आई., आॅवरब्रिज सभी गांवों रोड़वेज बसो का संचालन, मारवाड़ क्षेत्र के मुख्य क्षेत्रों को लिंक हाईवे से जोड़ना, मारवाड़ जंक्षन रेलवे स्टेषन पर मूलभूत सुविधाओं व मुख्य रेलगाड़ियों के ठहराव इत्यादि सुविधाएं भी एक सपना बनकर रह गई है उक्त सुविधाओं को लेकर भी मारवाड़ क्षेत्र की स्वयंसेवी संस्था श्री साई दर्षन सेवा संस्थान मारवाड़ विधानसभा क्षेत्र के ग्रामीणों के हस्ताक्षर युक्त अभियान के साथ लम्बे समय से मांग कर रही है.



Leave a comment