सीवरेज लाइन बिछाने में हो रहा था गड़बड़झाला, लोगों के हंगामे पर अधिकारियों ने किया पाबंद

जागरूक टाइम्स 359 Aug 10, 2018

- बिना पीसीसी के बिछाए जा रहे थे सीवरेज लाइन के पाइप

- पंचायत के सहायक अभियंता ने दी चेतावनी- काम सही नहीं हुआ तो रोक लेंगे भुगतान

आहोर @ जागरूक टाइम्स

कस्बे के वार्ड संख्या एक में गरीब नवाज मोहल्ले से लेकर दमामी चौक के आगे तक बिछाई जा रही सीवरेज लाइन में घटिया निर्माण व खानापूर्ति का मामला सामने आया है। मोहल्लेवासियों के ध्यान में आने के बाद जब पंचायत समिति के सहायक अभियंता व ग्राम सेवक को सूचना दी तो तत्काल मौके पर पहुंच काम रुकवाया। साथ ही गुणवत्तापूर्ण कार्य करने एवं काम में खामी होने पर भुगतान रोकने की चेतावनी दी। इसके बाद दोपहर तक काम शुरू हो पाया, लेकिन उसमें भी खानापूर्ति का खेल चलता रहा।


दरअसल, गत अप्रेल माह में वार्ड संख्या के बाशिंदों ने पानी की निकासी नहीं होने को लेकर सोशल मीडिया पर मुहिम चलाई थी। मामला ध्यान में आने के बाद विधायक, सरपंच व पंचायत समिति के अधिकारियों ने मौके पर पहुंच जायजा लिया था। साथ ही कार्य के लिए वित्तीय स्वीकृति जारी होने की बात कहते हुए ठेकेदार को कार्य शुरू करने की हिदायत दी थी। इसके बाद ७ अगस्त को ठेकेदार की ओर से कार्य शुरू किया गया, लेकिन ठेकेदार की ओर से पाइपलाइन बिछाने से पहले नियमानुसार उसके नीचे चार इंची पीसीसी नहीं की गई। हालांकि कुछ लोगों ने इस पर आपत्ति भी की, लेकिन वे अपना कार्य करते रहे। इस दौरान करीब दो सौ फीट तक इन लोगों ने पाइप लाइन भी बिछा दी।

सूचना पर पहुंचे अधिकारी

इस बीच, गुरुवार को भी यह लोग बिना पीसीसी के पाइप लाइन बिछाने का कार्य करने लगे। जिस पर कुछ लोगों ने पंचायत समिति के सहायक अभियंता व ग्राम सेवक को इत्तला दी। कुछ ही देर में सहायक अभियंता सीपी वर्मा, भाजपा नेता गेनाराम मेघवाल व ग्राम सेवक मौके पर पहुंचे। इस दौरान वर्मा ने पाइपलाइन के नीचे पीसीसी नहीं करने एवं चैम्बर निर्माण में अनियमितता को गंभीर लापरवाही माना। उन्होंने मौके पर ही ठेकेदार से फोन पर बात कर कार्य रुकवाया दिया। इस दौरान उन्होंने चैम्बर निर्माण का भी जायजा लिया एवं उसमें लापरवाही की बात मानी। उन्होंने ठेकेदार को सख्त हिदायत देते हुए कहा कि जहां तक पीसीसी तक नहीं की गई है। उसका भुगतान नहीं किया जाएगा। साथ ही आगे से पीसीसी के बाद ही पाइपलाइन बिछाने के निर्देश दिए।

सीवरेज की लेवलिंग सही नहीं हुई तो अटकेगा भुगतान

इस दौरान वर्मा ने ठेकेदार को साफ शब्दों में कहा कि चैम्बर निर्माण में गुणवत्तापूर्ण कार्य होना चाहिए। वहीं पीसीसी बिछाने के अलावा लेवलिंग भी सही होनी चाहिए। सीवरेज निर्माण पूर्ण होने के बाद टैंकर से पानी डालकर उसकी निकासी जांची जाएगी। अगर पानी की सही निकासी होगी तो ही भुगतान किया जाएगा। अन्यथा पंचायत समिति की ओर से भुगतान नहीं किया जाएगा।

इसलिए हुआ गड़बड़झाला

दरअसल, करीब साढ़े आठ लाख रुपए की लागत से हो रहे सीवरेज निर्माण में गड़़बड़ी होने की सबसे बड़ी वजह इस कार्य का तीसरे व्यक्ति तक हस्तांतरण होना है। जिस ठेकेदार को यह कार्य दिया गया, उसने कमीशन लेकर दूसरे व्यक्ति को कार्य दे दिया। इसके बाद उसने भी तीसरे व्यक्ति को कार्य हस्तांतरित कर दिया। ऐसे में मुनाफे के फेर में इस कार्य में भी जमकर खानापूर्ति हो रही है। करीब दो सौ फीट तक तो पीसीसी ही नहीं की गई। इसके बाद कार्य शुरू भी हुआ तो ठेकेदार की ओर से महज एक इंची पीसीसी करके खानापूर्ति की जाने लगी। हालांकि शाम को फिर से मोहल्ले वासियों ने आपत्ति की तो कार्य सही तरीके से किया जाने लगा। इधर, मोहल्लेवासियों ने चेतावनी दी कि अगर कार्य में अनियमितता हुई तो इसकी शिकायत एसीबी से की जाएगी।

जांच के बाद ही भुगतान

कार्य शुरू करने से पहले ही ठेकेदार को गुणवत्तापूर्ण कार्य एवं लेवलिंग के लिए हिदायत दी थी। इसके बावजूद कार्य में अनियमितता की गई है। इसके लिए दोबारा उसे चेतावनी दी गई है। कार्य के दौरान मोहल्लेवासी भी ध्यान दें। अगर कार्य सही नहीं हो रहा तो वे सूचना दें। कार्य पूर्ण होने पर जांच के बाद ही भुगतान किया जाएगा।

- सी.पी. वर्मा, सहायक अभियंता, पंचायत समिति, आहोर

ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे ...

Leave a comment