राजस्थान में बीजेपी को मिल गया 'कप्तान', मदन लाल सैनी बने प्रदेशाध्यक्ष

जागरूक टाइम्स 180 Jun 29, 2018

जयपुर। लगभग 74 दिनों की लंबी मशक्कत के बाद शुक्रवार को राजस्थान भाजपा को नया 'कप्तान' मिल ही गया। राज्यसभा सांसद मदनलाल सैनी को भाजपा का नया प्रदेशाध्यक्ष बनाया गया है। नई दिल्ली से शुक्रवार शाम को सैनी के प्रदेशाध्यक्ष बनने के आदेश जारी हुए। सैनी के नाम पर प्रदेश नेतृत्व और केंद्रीय नेतृत्व दोनों ही सहमत नजर आए। सैनी को इसी साल राज्यसभा का सांसद बनाया गया था।

सैनी भाजपा संगठन में कई महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं। सैनी तीन बार प्रदेश महामंत्री के अलावा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय महामंत्री के पद पर रह चुके हैं। एक बार वे उदयपुरवाटी से विधायक भी रहे हैं। हालांकि एमपी और एमएलए के चुनाव में उन्हें हार का भी सामना करना पड़ा था।

गौरतलब है कि अशोक परनामी ने कामकाज में व्यस्तता का हवाला देते हुए गत 16 अप्रेल को पार्टी प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके चलते अप्रेल से प्रदेश में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष का पद खाली था। इसके लिए राजस्थान के कई मंत्रियों और नेताओं ने पिछले कई दिनों से दिल्ली में डेरा डाले हुए थे।

विद्यार्थी परिषद से शुरुआत

मदनलाल सैनी वर्तमान में राज्यसभा के सासंद हैं। वर्ष 1970 में विधि स्नातक बनकर वकालत करने वाले सैनी ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत विद्यार्थी परिषद के जिला और प्रदेश पदाधिकारी के रूप में की। प्रदेश के मजदूरों के लिए भारतीय मजदूर संघ के प्रदेश महामंत्री बनकर सैनी ने लम्बे संघर्ष के बल पर राज्य में अपनी अलग पहचान बनाई।

शेवावाटी में जश्न, समर्थकों में खुशी
सीकर। मदनलाल सैनी 1990 में झुंझुनूं के उदयपुरवाटी विधानसभा से विधायक रहे तथा 1991 व 1996 में लोकसभा में भाजपा के झुंझुनूं से प्रत्याशी रहे हैं। सैनी के नाम की घोषणा के साथ ही सीकर व शेखावाटी में खुशी की लहर दौड़ गई है। सीकर में पुरोहितजी की ढाणी निवासी मदनलाल सैनी को मार्च 2018 में राजस्थान से भाजपा ने राज्यसभा सदस्य बनाया था। उनके हाथ में पूरे प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपी गई है। भाजपा संगठन व आरएसएस में लंबे समय सक्रिय मदनलाल सैनी का नाम प्रदेशाध्यक्ष के तौर पर आने के साथ ही उनके घर बधाई देने वालों का तांता लग गया।

उदयपुरवाटी से रहे विधायक

मदनलाल सैनी 1952 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक से जुड़े थे। बाद में लगातार संघ के विभिन्न संगठनों में सक्रिय रहे। एबीवीपी के प्रदेश मंत्री भी रहे हैं। वर्ष 1975 तक वकालत के पेशे से जुडऩे के बाद आपातकाल में जेल में भी रहे। संघ की ओर से सैनी ने भारतीय मजदूर संघ में प्रदेश महामंत्री व अखिल भारतीय कृषि मजदूर संघ के राष्ट्रीय महामंत्री का दायित्व निभाया।

1990 में झुंझुनूं के उदयपुरवाटी विधानसभा से विधायक रहे तथा 1991 व 1996 में लोकसभा में भाजपा के झुंझुनूं से प्रत्याशी रहे। सैनी भाजपा में प्रदेश महामंत्री व अनुशासन समिति के सदस्य भी रह चुके हैं। वर्तमान में पंडित दीनदयाल उपाध्याय प्रशिक्षण महाभियान के प्रदेश प्रभारी भी हैं।

सादगी का रहा हर कोई कायल

सैनी संगठन के जमीन से जुड़े कार्यकर्ता रहे हैं। सादगी पर हर कोई चर्चा करता रहा है। सैनी जयपुर से सीकर आते समय अधिकतर राजस्थान रोडवेज में सफर करते हैं। कई बार कार्यकर्ताओं के आग्रह पर भी वे निजी वाहन की बजाय रोडवेज बस में ही सफर करना पसंद करते हैं।

Leave a comment