राजस्थान के मंत्रियों, विधायकों का वेतन बढ़ा

जागरूक टाइम्स 83 May 24, 2018
राजस्थान में अब नेताओं की और ज्यादा चांदी है. वसुंधरा राजे सरकार ने मुख्यमंत्री, पूर्व सीएम, मंत्री, स्पीकर, डिप्टी स्पीकर, विधायकों और असेंबली अफसरों को मिलने वाली सुविधाओं में भारी इजाफा किया है. मंगलवार को इससे जुड़े संशोधन बिल विधानसभा में पास किया गया. इस संशोधन से सरकारी खजाने में हर साल 19 करोड़ का अतिरिक्त भार पड़ेगा. संशोधनों के मुताबिक पांच साल का कार्यकाल पूरा करने वाले सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों को ताउम्र सरकारी बंगला मिलेगा. ये बंगला या तो जिला मुख्यालय में होगा या फिर जयपुर में. अगर कोई नेता इस सुविधा का लाभ नहीं उठाता है तो उसे इसके एवज में भत्ता मिलेगा. इसके अलावा पूर्व सीएम अब अपने परिवार के लिए सरकारी गाड़ी का इस्तेमाल कर सकेंगे. साथ ही वो मुफ्त टेलीफोन सुविधा के भी हकदार होंगे. इतना ही नहीं, पूर्व मुख्यमंत्रियों को 9 लोगों को स्टाफ दिया जाएगा. इनमें निजी सचिव, क्लर्क, ड्राइवर और क्लास-IV के मुलाजिम शामिल होंगे. विधानसभा में पारित विधेयक में मौजूदा मुख्यमंत्रियों, मंत्रियों, विधानसभा स्पीकर, डिप्टी स्पीकर और असेंबली अफसरों को भी सौगातें दी गई हैं. मुख्यमंत्री को अब 35 हजार की जगह 55 हजार वेतन मिलेगा. विपक्ष के नेता की तनख्वाह बढ़ाकर 45 हजार रुपये कर दी गई है. मंत्रियों को अब 45 हजार रुपये मिलेंगे. साल 2012 में ये रकम 30 हजार रुपये तय की गई थी. इसी तरह स्पीकर को मासिक सैलरी अब 50 हजार रुपये होगी. जबकि विधायकों का वेतन 15 हजार से बढ़ाकर 25 हजार रुपये कर दिया गया है. इन सभी को हर महीने 50 हजार रुपये का अतिथि भत्ता अलग से दिया जाएगा. पूर्व विधायकों की पेंशन अब 25 हजार रुपये होगी. उन्हें 50 हजार रुपये का मुफ्त यात्रा भत्ता भी मिलेगा.

Leave a comment