मेरा लक्ष्य तो अर्जुन की तरह कांग्रेस को चुनाव में जीत दिलाना है : सचिन पायलट

जागरूक टाइम्स 199 Aug 2, 2018

जयपुर @ जागरूक टाइम्स

लीडरशिप के विवाद को लेकर पिछले दिनों कांग्रेस के दिग्गजों ने अपने बयानों के जरिए चुनाव से ठीक पहले पार्टी की खूब फजीहत कराई, लेकिन सीएम फेस विवाद पर पीसीसी चीफ सचिन पायलट का सीधा और सुलझा हुआ बयान आया है। पायलट ने कहा कि पार्टी में मुझे बहुत कम वक्त में बहुत कुछ मिला है। पार्टी किसी एक नेता के दम पर आगे नहीं बढी है। इसमें सबका सामूहिक सहयोग रहा है। पायलट के कहा कि जब पार्टी 21 सीटों पर सिमट गई थी। तब राहुल ने उस मुश्किल दौर में जिम्मेदारी दी थी। जबकी उस वक्त कई बड़े नेता मौजूद थे। पायलट ने कहा कि मेरा लक्ष्य अर्जुन की तरह कांग्रेस को जीत दिलाना है।

यह भी पढ़े : बार एसोसिएशन बागोड़ा के अध्यक्ष बने गोरधन विश्नोई 

गौरतलब है कि लालचंद कटारिया के अशोक गहलोत को सीएम फेस घोषित करने के बयान से मचा बवाल अब थमने के कगार पर है। हर कोई विदेश यात्रा से लौटते ही मामले में प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के रिएक्शन के इंतजार में था। पायलट ने मीडिया में तमाम घटनाक्रम पर बेहद ही सुलझे हुए नेता की तरह साफ और सुथरी प्रतिक्रिया देते हुए तमाम अटकलों पर ब्रेक लगाने की कोशिशें की। पायलट ने कहा कि मुझे तब पीसीसी चीफ बनाकर राहुल गांधी ने भेजा, जब राजस्थान में आजादी के बाद कांग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई थी। उस वक्त औऱ भी बड़े बड़े नेता थे, लेकिन राहुल गांधी ने उन पर भरोसा नहीं जताते हुए मुझे यह जिम्मेदारी दी। अब मुझे तो इसका निर्वहन करना है। चाहे राह में कितनी ही अड़चनें और चुनौतियां आए।

यह भी पढ़े :  निम्बला गांव में फायरिंग के मुख्य आरोपी रघुवीरसिंह सहित चार जनों ने किया सरेंडर 

पार्टी हित में सोचना चाहिए

पायलट ने किसी का नाम लिए बगैर स्पष्ट शब्दों में मैसेज देते हुए कहा कि जो आज बड़े बड़े नेता हैं। जिनको पार्टी में देश औऱ प्रदेश में बड़ी जगह मिली वो पार्टी के बदौलत मिली है। उन्हें पार्टी के हित में सोचना चाहिए। क्योंकि आज जनता चाहती है कि कांग्रेस की सरकार बने। लिहाजा उन सब नेताओं को सकारात्मक भूमिका अब निभानी चाहिए। पायलट ने कहा कि 130 साल पुरानी कांग्रेस किसी एक व्यक्ति औऱ किसी एक नेता की पार्टी नहीं है। इसमें तमाम नेताओं का सामूहिक योगदान रहा है। सबने मिलकर काम किया है, तब जाकर पार्टी मजबूत हुई है। 

पार्टी ने कम समय में बहुत कुछ दिया

पायलट ने कहा कि रही बात किसी पद को तो कांग्रेस ने मुझे बहुत कम समय में मुझे बहुत कुछ दिया है। 26 की उम्र में मैं सांसद बन गया। 31 साल की आय़ु में सोनिया गांधी औऱ मनमोहन सिंह ने केन्द्र में मंत्री बना दिया। 35 साल में राज्य के पीसीसी चीफ की जिम्मेदारी दे दी। वो भी ऐसे वक्त जब राजस्थान में कांग्रेस हाशिए पर चल गई थी। लिहाजा अब मेरा लक्ष्य तो एकमात्र कांग्रेस पार्टी को जीत दिलाना औऱ भाजपा को हराने का है। अब वक्त पार्टी को देने का है।

वीडियो देखे : बाड़मेर: टायर फटने से अनियंत्रित बोलेरो ने खाई पलटी, 1 की मौत, महिला सहित 4 अन्य घायल 

विवाद को दी एंड करने की कोशिश

जाहिर सी बात है कि सचिन पायलट ने ऐसी बयान देकर अब इस विवाद को एक तरीके से दी एंड करने की कोशिश की है। साफ और स्पष्ट शब्दों में सबको मैसेज भी दे दिया है कि आलाकमान और पार्टी की क्या सोच है। बगैर किसी नेता के नाम लिए और सधी हुई टिप्पणी से पायलट ने सब कुछ क्लीयर कर दिया है। अब देखना होगा कि पायलट के बयान के क्या मायने निकाले जाएंगे और अन्य नेता इसे किस तरह लेंगे।

Leave a comment