कांग्रेस की सरकार बनाए जो किसानों की वेदना समझ सके : पायलट

जागरूक टाइम्स 440 Sep 30, 2018

जयपुर @ जागरूक टाइम्स

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट रविवार को उदयपुर संभाग के दौरे पर रहे। पायलट सुबह नौ बजे दिल्ली से हवाई मार्ग द्वारा उदयपुर के डबोक स्थित महाराणा प्रताप हवाई अड्डे पर पहुंचे, जहां कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी, वरिष्ठ नेता डॉ. सी.पी. जोशी, डॉ. गिरिजा व्यास, रघु मीणा, सह-प्रभारी तरुण कुमार सहित कांग्रेस के दिग्गज़ नेता भी साथ रहे।

यहां से कांग्रेस नेताविशेष किसान महारैली रथ (बस) में सवार हो कर राजसमंद ज़िले के दौरे पर निकले। जहां जगह-जगह जनता एवं कार्यकर्ताओं द्वारा उनका स्वागत किया गया। सर्वप्रथम कांग्रेसजनों ने राजसमंद के चारभुजा स्थित प्रसिद्ध श्री चारभुजा नाथ मंदिर में दर्शन कर आशीर्वाद प्राप्त किया। तत्पश्च्यात उन्होंने मौराणा चौराहा पर आयोजित विशाल किसान महारैली में शिरक़त की। रैली में उदयपुर संभाग के विभिन्न क्षेत्रों से किसान परिवारों ने भारी संख्या में पहुंच कर किसान विरोधी भाजपा सरकार के ख़िलाफ़ रोष व्यक्त करने के साथ-साथ कांग्रेस पार्टी पर विश्वास जताते हुए अपना समर्थन दिया।

सभा को संबोधित करते हुए पायलट ने कहा कि आज जिस भारी संख्या में यहां किसान परिवार एवं कृषि से जुड़े वर्ग पहुंचे हैं, उससे ये एहसास होता है कि प्रदेश में किसान परिवारों में भाजपा सरकार के प्रति भारी रोष है और किसानों की भाजपा सरकार के प्रति ये नाराज़गी बिल्कुल जायज़ है। वसुंधरा राजे ने पिछले चुनावों में सुराज संकल्प यात्रा निकाल कर प्रदेशभर में घूम-घूम कर किसानों से बड़े-बड़े वादे किए, किसान परिवारों ने भी भाजपा पर भरोसा जताया और पूर्ण बहुमत के साथ अपनी सरकार बनाई। लेकिन ये बहुत दुःखद है कि पिछले साढ़े चार वर्षों में जो किसानों एवं कृषि से जुड़े वर्गों की दुर्गति हुई है, जो अनदेखी भाजपा सरकार ने की है। वो इतिहास में याद रखा जाएगा और जनता इस भाजपा सरकार को कभी माफ़ नहीं करेगी।

उन्होंने कहा राजस्थान एक बहुत बड़ा राज्य है, जहां कहीं सूखा पड़ता है, तो कहीं बाढ़ के हालात हो जाते हैं। कभी कम वर्षा की वजह से तो कभी ओला वृष्टि की वजह से किसानों को नुकसान झेलना पड़ता है, लेकिन ये कोई नई बात नहीं है। ऐसा वर्षो से होता आ रहा है और सरकार की मदद से किसानों को राहत मिल जाया करती थी, लेकिन ये बताते हुए दुःख होता है कि वसुंधरा राजे के राज में किसानों की ऐसी दुर्गति हुई कि इतिहास में पहली बार राजस्थान के किसानों को आत्म-हत्या करने पर विवश होना पड़ा। किसानों को राहत पहुंचाना तो दूर भाजपा सरकार ने किसानों का शोषण करने का काम किया। ना बिजली, ना पानी, ना समर्थन मूल्य, ना समय पर पर्याप्त मुआवजे की व्यवस्था, भाजपा सरकार किसानों की जरूरतों को पूरा करने में हर मोर्चे पर विफ़ल रही। क्योंकि ये वो सरकार है जो किसानों की शव यात्रा पर गौरव यात्रा निकालने में विश्वास करती है, ना कि किसानों के कल्याण में।

बड़े-बड़े पूंजीपति अरबों-खरबों रुपए लेकर फ़रार हो रहे हैं, लेकिन किसानों का ऋण माफ़ करना तो दूर, बैंकों द्वारा कर्ज़ा चुकाने के लिए उन्हें अपमानित किया जाता है, प्रताड़ित किया जाता है, ज़मीन की नीलामी की धमकी तक दे दी जाती है। भाजपा सरकार ने साबित कर दिया है कि किसान विरोधी सरकार है। जिसकी रीति-नीति किसानों की सेवा करना नहीं है, सिर्फ़ सत्ता में बने रहना ही इनका एक मात्र उद्देश्य है। जिसके लिए भाजपा किसी भी हद तक जा सकती है।

उन्होंने कहा कि इतिहास साक्षी है कि कांग्रेस ने सदैव किसानों के लिए संघर्ष किया है। चाहे कांग्रेस सत्ता में रही हो या ना रही हो, किसानों के लिए कांग्रेस ने कभी संघर्ष करना नहीं छोड़ा। कांग्रेस ने विपक्ष में रहते हुए भी किसानों के लिए बिजली, पानी, कर्ज़ा माफ़ी, न्यूनतम समर्थन मूल्यों सहित सभी मुद्दों पर सरकार को घेरा और मैं विश्वास दिलाता हूं कि आपके आशीर्वाद से जो प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनेगी, वो किसानों की सरकार होगी।

उन्होंने कहा कि केंद्र एवं प्रदेश दोनों ही जगह भाजपा की सरकार होने के बावजूद पिछले साढ़े चार वर्षों में भाजपा के किसी भी नेता ने जनता का हाल जानने तक का प्रयास नहीं किया और अब चुनावी माहौल को देख कर मुख्यमंत्री जनता के बीच पहुंच भी रही है तो जनता को उनकी बात पर विश्वास नहीं रहा। सत्ता-प्रशासन का दुरुपयोग करके भले ही भाजपा अपनी चुनावी सभाओं में भीड़ जुटाने में कामयाब रही हो, लेकिन हाईकोर्ट की फटकार के बाद अब भाजपा की सभाओ में पंडाल खाली मिलते हैं।

पायलट ने कहा कि कांग्रेस में आपसी मतभेद के आरोप लगाने वालो से कोई जा के पूछे कि क्यों मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह अलग-अलग चुनावी सभाएं कर रहे हैं? कांग्रेस अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में एकजुट है। साथ ही मिलजुल कर चुनाव लड़ेगी और इस तानाशाह, जन-विरोधी भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकेगी।

उन्होंने कहा कि अब प्रदेश से इस भाजपा सरकार को विदाई देने का समय आ गया है। ये महलों की सरकार है, लेकिन अब समय आ गया है कि ग़रीबों, मज़दूरों, किसानों और आमजन की सरकार बने। जिसमें जनता की समस्याएं सुन कर उनके समाधान करने का जज़्बा हो। जो किसानों की वेदना समझ कर उनको सहूलियत पहुंचा सके।

Leave a comment