अब आजादी के बाद के सभी युद्धों में शहीदों के एक परिजन को मिलेगी सरकारी नौकरी

जागरूक टाइम्स 338 Aug 18, 2018

- 1962 के चीन युद्ध, 1965 के पाकिस्तान की लड़ाई में हुए शहीदों के परिजनों को भी नौकरी

- सरकार कर रही है नियमों में संशोधन

- पूर्व विधायकों की फैमिली पेंशन और अन्य सुविधाओं का दायरा बढ़ेगा

जयपुर @ जागरूक टाइम्स

आजादी के बाद से लेकर अब तक सभी युद्ध और लड़ाइयों में शहीद होने वाले जवानों के परिजनों को भी अब सरकारी नौकरी मिलेगी। अभी तक कारगिल पैकेज के तहत ही शहीद सैनिकों के परिजनों को नौकरी मिलती थी। राज्य सरकार शहीद सैनिकों के परिजनों को सरकारी नौकरी देने के नियमों में बदलाव करने जा रही है।

प्रस्तावित नए नियमों के मुताबिक़ अब 1947 से लेकर कारगिल से पहले हुए सभी युद्धों में शहीद हुए जवानों के परिजनों को सरकारी नौकरी का प्रावधान किया जा रहा है। हर शहीद के परिवार में से एक परिजन को सरकारी नौकरी मिलेगी।

आजादी के बाद 1962 में चीन युद्ध, 1965 और 1971 में पाकिस्तान से युद्ध में प्रदेश के बड़ी संख्या में जवान शहीद हुए थे, इन शहीद जवानों के परिजनों को नौकरी का रास्ता साफ हो गया है। 1962 और 1965 के युद्ध में शहीद जवानों के तो पौते भी वयस्क हो गए हैं, ऐसे में दादा देश के लिए शहीद हुए और अब पौतों को नौकरी मिलेगी।
शहीद सैनिकों के परिजनों को नौकरी देने के नियमों में संशोधन का प्रस्ताव कैबिनेट में भेजा गया है। मंत्रियों ने सर्क्युलेशन के जरिए प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। कैबिनेट आज्ञा जारी होने के बाद सैनिक कल्याण विभाग नियमों में बदलाव की अधिसूचना जारी करेगा। 

पूर्व विधायकों की फैमिली पेंशन और अन्य सुविधाओं का दायरा बढ़ेगा

पूर्व विधायकों की फैमिली पेंशन, चिकित्सा सुविधा सहित अन्य सुविधाओं का दायरा बढ़ेगा। सरकार राजस्थान विधानसभ अधिकारियों एवं सदस्यों की परिलब्धियां एवं पेंशन 1956 (एवं 1957 का राजस्थान अधिनियम)...संख्याक 6 में संशोधन करने जा रही है। कैबिनेट ने सर्क्युकेशन के जरिए प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

Leave a comment