गहलोत सरकार ने की समीक्षा, भीलवाड़ा में कफ्र्यू पर विचार

जागरूक टाइम्स 341 Apr 1, 2020

जयपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए 21 दिन के लॉकडाउन का सोमवार को छठे दिन राजस्थान से पलायन कर रहे लोगों के लिए अब बसें उपलब्ध कराना बंद कर दिया गया। रविवार को राजस्थान रोडवेज की 225 बसें चलाई गईं थीं, लेकिन सोमवार को इन्हे बंद कर दिया गया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में सोमवार शाम उच्च स्तरीय बैठक हुई। बैठक में उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के अलावा मंत्रिमंडल के वरिष्ठ सदस्य और कई अधिकारी मौजूद थे। इस बैठक में कोरोना से निपटने को लेकर सरकार द्वारा चलाए जा रहे अभियान की समीक्षा करने के साथ ही प्रदेश से पलायन कर रहे अन्य राज्यों के लोगों से यहीं रहने की अपील की गई।

सीएम ने कहा कि राज्य सरकार सभी लोगों का ख्याल रखेगी, किसी को बाहर जाने की जरूरत नहीं है। बैठक में कोरोना के सबसे बड़े केंद्र बने भीलवाड़ा को लेकर चर्चा की गई। भीलवाड़ा में आगामी 3 से 13 अप्रेल तक महा कफ्र्यू लगाने को लेकर चर्चा हुई। इन दस दिन में पूर्व में जिन लोगों को पास जारी किए गए हैं, उनके पास भी निरस्त कर दिए जाएंगे। किसी भी व्यक्ति को घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं होगी, चाहे वह सामाजिक संस्था का प्रतिनिधि ही क्यों ना हो। केवल सरकारी अधिकारी और चिकित्सकों को ही अपना काम करने की अनुमति दी जाएगी। बैठक में बताया गया कि कोरोना पीडि़तों की मदद के लिए बनाए गए कोविड-19 राहत कोष में अब तक 35 करोड़ 48 लाख जमा हो चुके हैं।

आठ नए मामले, अब तक 56 संक्रमित
राजस्थान के जयपुर में कोविड-19 के 8 और नए मामले सामने आए हैं। सोमवार रात इन मामलों की पुष्टि की गई है। ये सब लोग एक ही परिवार के हैं। सोमवार रात तक राजस्थान में कोरोना पीडि़तों की संख्या 56 पहुंच गई है। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि चिकित्सा विभाग की सक्रिय निगरानी टीम ने राज्य में 3 करोड़ से अधिक परिवारों की स्क्रीनिंग की है। इनके अलावा 28,43,362 मरीजों को अप्रतिरोधी निगरानी में रखा गया है जबकि 302 लोगों को फिलहाल जिलों में आइसोलेसन पर रखा गया है। वहीं जो लोग संक्रमितों के संपर्क में आए हैं उनको आइसोलेशन पर रखा गया है। देशभर में कोरोना वायरस को हराने के लिए लॉकडाउन लागू कर दिया गया है।



Leave a comment