गहलोत सरकार का राहत फॉर्मूला तैयार

जागरूक टाइम्स 376 Dec 20, 2018
जयपुर (ईएमएस)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत 365 दिन और 18 घंटे काम करने की हसरत उनमें दिख रही है पिछले तीन दिन में मुख्यमंत्री गहलोत ने हर दिन कोई न कोई बडा प्रशासनिक फैसला लेकर हर किसी को चौका दिया है। गहलोत के मास्टर विजन का प्रशासनिक मशीनरी नहीं, बल्कि विपक्ष के कई नेता भी कायल रहे है। मुख्यमंत्री गहलोत बोलते कम है और काम करके ज्यादा दिखाते है।

किसानों की कर्जमाफी के ऐलान के बाद अब गहलोत की 18 योजनाओं को उनके प्रशासनिक टीम लागू करने के लिए पूरी मुस्तैदी से तैयार हो चुकी है कैबिनेट की पहली बैठक में ही इस बार सौगातों की बरसात मिलने की उम्मीद है। जानकारी के अनुसार आवास कृषक, विद्यार्थी और महिलाओं से जुडी योजनाओं का स्वरूप तैयार हो रहा है जिसके तहत इन योजनाओं को भरपूर लाभ लोगों को मिले वहीं सूत्रों के अनुसार करीब आधा दर्जन शुरू होने वाली नई योजनाओं का नाम पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू, पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल, राजीव गांधी के नाम से योजनाएं शुरू की जाएगी।

वहीं अब अटल बिहारी वाजपेयी का नाम योजनाओं से नहीं हटेगा वहीं बेटी बचाओ, बेटी पढाओ, दूध योजना का अन्नपूर्णा योजना का लाभ लोगों को मिलता रहेगा। राजस्थान में गरीब आम तबके के लिए महंगा इलाज और दवाएं संभव नहीं है अब गहलोत के स्वास्थ्य विभाग रोहित कुमार सिंह और समित शर्मा को जिम्मा सौपा है इसके बाद महंगी दवाएं जो गरीब और मध्यम वर्ग के बूत से बाहर रही है इनको निशुल्क लाने की तैयारी है वहीं डिस्पेसरियां में दवाओं का कोटा फिर बढ़ाया जा रहा है। वहीं गहलोत सरकारी काम की पहली प्राथमिकता काम का गारंटी हो सकता है सरकारी कार्यालयों में परेशान आम जनता को राजस्थान लोक सेवाओं के प्रदान की गारंटी अधिनियम 2011 को पूरी तरह प्रभावी बनाने का सरकार का फोकस है।

Leave a comment