गहलोत व पायलट ने मुख्यमंत्री राजे पर साधा निशाना, भाजपा को बताया धन्ना सेठों की पार्टी

जागरूक टाइम्स 159 Aug 28, 2018

जयपुर @ जागरूक टाइम्स

चूरू में संकल्प यात्रा की रैली के जरिए कांग्रेस ने बीकानेर संभाग में शुरू हो रही गौरव यात्रा से पहले ये संदेश छोड़ने का भी प्रयास किया है कि कांग्रेस का हाथ गरीब और किसान के साथ है। वहीं यह भी बताने का प्रयास किया गया है कि भाजपा धन्ना सेठों की पार्टी है। खास बात यह भी रही कि इस दौरान राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद को जादूगर बताने से नहीं चुके, तो पीसीसी चीफ सचिन पायलट ने भी अपने आपको किसानों का हितैषी होने के तौर प्रस्तुत किया।

इससे पूर्व जयपुर से चले कांग्रेस नेताओं का जगह-जगह जोरदार स्वागत हुआ। हालांकि अशोक गहलोत अलग गाड़ी में तो प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडेय, सचिन पायलट और प्रतिपक्ष नेता रामेश्वर डूडी एक गाड़ी में सभा स्थल पहुंचे। मंच पर इन नेताओं के अलावा पूर्व केन्द्रीय मंत्री सीपी जोशी, भंवर जितेंद्र सिंह, नमोनारायण मीणा, पूर्व सांसद नरेन्द्र बुडानिया, रफीक मंडेलिया सहित कई कांग्रेसी दिग्गज दिखाई दिए।

मंच से पीसीसी चीफ सचिन पायलट ने राजे सरकार पर निशान साधते हुए कहा कि मुख्यमंत्री भाग्यशाली रहीं कि जनता ने इतना प्रचंड बहुमत दिया, लेकिन अब जनता सब समझ चुकी है। भाजपा धन्ना सेठों की पार्टी है, लेकिन पार्टी की यात्रा में जनता के पैसों से लाउडस्पीकर खरीदा जा रहा है। वहीं पायलट ने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनेगी तो किसान अपनी फसल का समर्थन मूल्य खुद तय कर पाएंगे, ऐसी व्यवस्था होगी।

वहीं अशोक गहलोत भी आज रंग में दिखाई दिए और भाजपा सरकार पर जमकर निशाने साधे। गहलोत ने कहा कि ये भीड़ इस बात का संकेत कि आपका विश्वास कांग्रेस में है, आप जो फैसला करते हैं, वो शिरोधार्य है। लेकिन आज जो देश चला रहे हैं, उनका लोकतंत्र में यकीन नहीं है, ये फासिस्ट लोग हैं। राजे साढ़े चार किसी से नहीं मिली, राजस्थान में 28 साल में से 18 साल भाजपा ने राज किया, फिर भी वे कांग्रेस को कोस रहे हैं कि 70 साल में क्या किया। गहलोत ने चुटकी लेते हुए कहा कि जादूगर तो मैं हूं, लेकिन अमित शाह का बेटा जय शाह जाने कौनसी जादूगरी कर रहा है।

गहलोत और पायलट के अलावा प्रतिपक्ष नेता रामेश्वर डूडी, मोहन प्रकाश, सीपी जोशी, भंवर जितेंद्र सिंह, प्रदेश प्रभारी अविनाश पाण्डेय ने सम्बोधन दिया। कांग्रेस के वक्ताओं के निशाने पर मोदी और राजे रहे। मोहन प्रकाश ने अपने भाषण में खूब व्यंग्य बाण मोदी पर चलाए, तो गहलोत को सबसे शक्तिशाली महासचिव बताया। हालांकि बाद में पायलट की तारीफ कर बैलेंस किया, वही सीपी जोशी ने अपने संबोधन में कहा कि कांग्रेस सत्ता में आई तो जन हितैषी निर्णय लिए जाएंगे, समर्थन मूल्य को लेकर आधारभूत परिवर्तन किए जाएंगे। सेना में क्या हो रहा है, ये मुद्दा भी राहुल गांधी ने उठाया, राफेल डील के मुद्दे पर क्या हुआ है, सब जानते हैं।

प्रदेश प्रभारी अविनाश पाण्डेय ने कहा कि संकल्प रैली में जो उत्साह जनता ने दिखाया है, वो कांग्रेस को आत्मविश्वास देगा। भाजपा की सरकार में किसानों और गरीबों के खिलाफ निर्णय लिए गए हैं, जिसे देखते हुए भंवर जितेंद्र सिंह का प्रश्न सटीक लगता ​है कि आखिर गौरव यात्रा क्यों? ये गौरव यात्रा नहीं अंतिम यात्रा है। वहीं डूडी ने कहा कि किसान परेशान हैं और युवा बेरोजगार हैं, लेकिन इन सबके बावजूद सरकार नींद में है।

हालांकि मंच पर कांग्रेस के नेताओं ने खास तौर पर पायलट और गहलोत ने आपस में हंसकर बात कर एकजुटता का संदेश छोड़ने का प्रयास किया, लेकिन मंच के सामने ही समर्थक अपने-अपने नेता को मुख्यमंत्री बनाने का नारे लगाते दिखे। हालांकि चूरू में चितौड़गढ़ जैसी भीड़ तो नही उमड़ी, लेकिन फिर भी लोगों में उत्साह दिखाई दिया। गौरव यात्रा पर हुई पत्थरबाजी को लेकर कांग्रेसी नेताओं ने सफाई देते हुए एक स्वर में निंदा कर कहा कि इसमें कांग्रेस का कोई लेना—देना नहीं, कौन अच्छा कौन बुरा, इसका फैसला जनता करेगी।

Leave a comment