गहलोत पायलट के लिए नाक का सवाल बनी तीन सीटें

जागरूक टाइम्स 630 Apr 24, 2019

जयपुर (ईएमएस)। प्रदेश में पहले चरण के मतदान का समय जैसे जैसे नजदीक आ रहा है प्रत्याशियों के साथ ही नेताओं की भी धडकने तेज हो गई है प्रत्याशियों के साथ नेताओं ने भी प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है। प्रचार का जिम्मा आला नेताओं ने अपने कंधों पर उठा लिया है। कांग्रेस पार्टी जहां मिशन 25 को लेकर जुटी है वहीं प्रदेश की तीन सीटें ऐसी भी है जो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बनी हुई है ये तीन लोकसभा सीटें जोधपुर, अजमेर, टोंक सवाई माधोपुर है

ये तीनों ही सीटें इन दोनो नेताओं के लिए कितनी अहमितयत रखती है इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जोधपुर, लोकसभा क्षेत्र में अब एक दर्जन से ज्यादा रोड शो और सभाएं कर चुके है गहलोत के पुत्र वैभव गहलेात को मैदान में उतारा है वैभव का मुकाबला केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह से है गृह क्षेत्र होने के कारण यह सीट गहलोत के लिए इसलिए भी प्रतिष्ठा का सवाल बनी हुई है गहलोत स्वयं यहां से पांच बार सांसद रह चुके है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के लिए भी अजमेर और टोंक सवाई माधोपुर सीट प्रतिष्ठा का सवाल बनी हुई है। हालांकि पायलट पूरे प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों पर जाकर प्रचार कर रहे है लेकिन इन दो सीटों पर उनका जोर ज्यादा है इसकी एक वजह ये भी है कि टोंक से सचिन पायलट स्वयं विधायक है और अजमेर से वे पूर्व में सांसद रह चुके है टोंक सवाई माधोपुर और अजमेर में पायलट कई रोड शो और सभाएं कर चुके है।


Leave a comment