जिंदा महिला को जिंदा नहीं मान रही पुलिस!

जागरूक टाइम्स 342 Aug 8, 2018

- कोटखावदा में जिंदा बहन का मृत्यु प्रमाण-पत्र बना कर भाइयों ने हथिया ली जमीन

जयपुर। जमीन जायदाद हथियाने के लिए लोग किस स्तर तक गिर सकते हैं, इसकी एक बानगी जयपुर कमिश्नरेट के कोटखावदा थाना इलाके में देखने को मिली है। गरुड़वासी गांव निवासी एक महिला है पुष्पा देवी। पैतृक जमीन हड़पने के लिए उसके सगे भाइयों ने महिला को मरा हुआ बता साबित करते हुए पुष्पा देवी का मृत्यु प्रमाण-पत्र बनवाने के बाद जमीन का नामांतरण खुद के नाम करवा लिया। पीडि़ता के अनुसार यह पूरा मामला सरपंच की मिलीभगत से हुआ। 

यह भी पढ़े : पटवारी और आरआई पर फर्जी तरमीन करने का आरोप 

पीडि़ता पुष्पा देवी ने बताया कि पिछले वर्ष अक्टूबर में पीडि़ता को पता चला कि उसके दोनों भाइयों ने उसका फर्जी मृत्यु प्रमाण-पत्र बनाकर जमीन हथिया ली है। इसके बाद पीडि़ता ने कोर्ट की शरण ली। कोर्ट की दखल के बाद ये मामला कोटखावदा थाने पहुंचा लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। चूंकि पीडि़ता का ससुराल आगरा में है, ऐसे में इसके भाई शंकरसिंह और हनुमानसिंह नामांतरण के समय पुष्पा को नहीं बुलाया और फर्जी मृत्यु प्रमाण-पत्र लगा दिया। 

यह भी पढ़े : मोटरसाइकिल फिसलने से एक की मौत, दूसरा घायल 

पीडि़ता का कहना है कि कुछ दिनों पहले वे पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल से मिली। पुलिस कमिश्नर ने कोटखावदा थाना पुलिस को दो दिन में डीएनए जांच करने के आदेश दिए लेकिन दस दिन बाद भी कोटखावदा पुलिस ने डीएनए जांच नहीं करवाई। ये जिंदा महिला खुद का डेथ सर्टिफिकेट लेकर दर-दर भटक रही है। ये पुलिस को बता रही है कि मैं जिन्दा हूं लेकिन पुलिस मानने को तैयार नहीं हैं।

ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे ...

Leave a comment