अहिंसा की सोच से ही लोकतंत्र जिंदा है-गहलोत

जागरूक टाइम्स 65 Jun 17, 2019

जयपुर (ईएमएस)। जयपुर के जमवारामगढ़ के भानपुर कलां के कस्बें में राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय में गांधीविचारक, चिंतक डॉ. एसएन सुब्बाराव के दस दिवसीय शिविर के समापन समारोह में पहुंचे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मेरे बच्चन से मै डॉ. सुब्बाराव (भाईजी) के विचारों को सुनता आ रहा हूं और अपने आचार विचारों से उनके विचारों को आत्मसात् करने की हर वक्त कोशिश करता रहता हूं आज भी उनके द्वारा उद्बोधित किए जाने वाले अहिंसा के पुजारी गांधीजी के विचारों से लोकतंत्र सशक्त जीवित खड़ा मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि डॉ. सुब्बाराव के द्वारा देश-विदेशो में गांधी चिंतन का मुख्य बिन्दु अहिंसा परमोधर्मा है.

तभी लोकतंत्र आज सबल रहेगा जब गांधीजी के द्वारा अपनाया गया एक मेव सूत्र भगवान महावीर के संदेश में की अहिंसा हिंसा को समूल जड़ से खत्म करने की दवा है। मुख्यमंत्री ने डॉ. सुब्बाराव द्वारा लगाये जा रहे शिविरों पर कहा कि शिविरों में आने से संस्कार, संस्कृति, अनेकता में एकता का सन्देश उन तक पहुंचाते हैं...जो ये गीत के माध्यम से सन्देश देते हैं वे प्रेरणादायक होते हैं।

आप लोग अलग-अलग राज्यों से आए हैं, शिविर से आप जो संस्कार लेकर जाते हैं, सीखकर जाते हैं उनसे आप नौजवानों को एक सन्देश दे सकते हैं। यह काम आप करेंगे तो मैं समझता हूँ कि आपके आने का असली मकसद पूर्ण होगा और मैं दावे के साथ कह सकता हूँ जो व्यक्ति ऐसे कैम्पों में सीखता है वो उसके जीवन की पूँजी बन जाती है। जीवन भर वो पूंजी साथ चलती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब तक लोकतंत्र है तब तक गांधीजी के विचारों को भूलाया नहीं जा सकता।


Leave a comment