दर्दनाक दास्तां: दिल पर पत्थर रखकर पिता ने मुस्कुराते हुए पूरी की बेटी के विवाह की रस्में

जागरूक टाइम्स 170 Feb 27, 2020


सवाई माधोपुर (ईएमएस)। बूंदी जिले में सवाई माधोपुर-कोटा हाईवे पर मेज नदी में बस गिरने से 24 लोगों की मौत हो गई थी। ये सभी लोग सवाई माधोपुर जिले के नीम चौकी निवासी रमेश चंद्र की बेटी की शादी में बारात जा रहे थे। दुल्हन के ननिहाल पक्ष के 24 लोगों की हादसे में एक साथ मौत की सूचना ने लोगों को झकझोर कर रख दिया। काल के क्रूर हाथों परिवार के 24 लोगों के मौत के शिकार होने के बावजूद भी शादी समारोह में मौजूद लोगों ने हिम्मत दिखाते हुए अपने होंठ सील लिए। सभी ने दिल पर पत्थर रखकर जैसे-तैसे करके बेटी के हाथ पीले कर दिए, लेकिन दुल्हन और उसकी मां को इस बात का अहसास तक नहीं होने दिया कि परिवार में इतना बड़ा हादसा हो गया है।

इस पूरे घटनाक्रम में रमेशचन्द्र ने सुबह हादसे से लेकर रात को बेटी के विदा होने तक पूरे दिन जो दोहरा जीवन जीया वह शायद ही कोई दूसरा जी पाए। हादसे से अंदर तक टूट चुके रमेशचन्द्र बेटी और पत्नी से नजरें बचाकर भले ही इधर-उधर छिपकर बार-बार सिसकियां भरते रहे हों, लेकिन उनके सामने इस बात का तनिक भी अहसास नहीं होने दिया कि वह किस मुश्किल घड़ी और द्वंद से गुजर रहे हैं। रमेशचन्द्र का पूरा परिवार बुधवार को सुबह मैरिज गार्डन में बेटी के विवाह तैयारी में जुटे थे। सुबह 11 बजे भात भरने की रस्म होनी थी। रमेशचन्द्र की पत्नी भात की तैयारियों में मशगूल थी।

वह पलक पावड़े बिछाए भातवियों के आने का इंतजार कर रही थी। इसी दौरान रमेशचन्द्र को सुबह जैसे ही सूचना मिली की भात लेकर आ रहे लोगों की बस मेज नदी में गिर गई और उसमें सवार लोगों में 24 की मौत हो गई तो वह गश खाकर गिर पड़े। उस समय मैरिज गार्डन के शानदार हॉल में उनका पूरा परिवार मौजूद था। कोई नाच रहा था तो कोई शादी की दूसरी रस्मों में व्यस्त था।


Leave a comment