अशोक गहलोत ने जाट समाज को लेकर दिया बड़ा बयान, कहा...

जागरूक टाइम्स 164 Dec 9, 2019

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज जाट समाज के सम्मान समारोह में खुलकर अपने दिल की बात कही. अशोक गहलोत ने कहा कि आज राजनीति में जिस मकाम पर है उसमें जाट समाज का बड़ा योगदान है. लेकिन उन पर हमेशा जाट विरोधी नेता होने का आरोप लगता रहा है जो कि गलत है. वह हमेशा जाट सभा के उत्थान के लिए प्रयासरत रहे हैं. सीएम ने कार्यक्रम में जाट समाज के लोगों से घूंघट प्रथा को खत्म करने के लिए प्रयास करने की अपील की. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान जाट समाज संस्थान की ओर से आयोजित प्रतिभा सम्मान समारोह में शिरकत की. समाज के वरिष्ठ नागरिकों और सर्व समाज की प्रतिभाओं का सम्मान किया. इस अवसर पर सीएम ने अपने दिल की बात कहते हुए कहा कि जाट समाज ने उनके लिए बहुत कुछ किया है. वे मारवाड़ से आते हैं जहां जाट बिश्नोई और अन्य बिरादरी ने हमेशा उनका साथ दिया है. पांच बार सांसद बने तीन बार मुख्यमंत्री बने पीसीसी अध्यक्ष बने हमेशा जाट समाज का अहम योगदान रहा. जब परशराम मदेरणा सक्रिय थे तब पीसीसी अध्यक्ष था. तब कुछ लोगों ने राजनीति करने के लिए मुझे जाट विरोधी करार दिया.

साथ ही, अशोक गहलोत ने कहा कि पिछले 20 साल से मैं यह ठप्पा झेल रहा हूं. लेकिन मैं भी कोई साधु-संत नहीं हूं. राजनीति करता हूं. मुझे भी लोगों का दिल जीतना आता है और हमेशा जाट समाज के लिए जब भी जरूरत हुई मैं तैयार रहा हूं. आज भी जाट समाज के लोगों ने कहा है कि जाट समाज संस्थान के इस भवन के लिए ही मैंने जमीन दी थी और बगल में अब छात्राओं के छात्रावास के लिए जमीन की आवश्यकता है. इसकी जिम्मेदारी मैंने सरकार में समाज के मंत्री गोविंद डोटासरा और लालचंद कटारिया को दी है वे दोनों नेता शांति धारीवाल से मिले अगर किसी तरह की दिक्कत आ रही है तो मैं हमेशा तैयार हूं. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज एक बार फिर से समाज की महिलाओं की मौजूदगी में घुंघट और बुर्के प्रथा का मुद्दा उठाया. सीएम ने कहा जाट समाज का आजादी की लड़ाई में विशेष योगदान रहा है. लेकिन अब घुंघट प्रथा हटाने के लिए भी जाट समाज को आगे आना चाहिए. देश में अधिकांश राज्यों में घूंघट प्रथा नहीं है लेकिन राजस्थान में बहुत अधिक है शिक्षित लड़कियां घूंघट नहीं करती केवल अशिक्षा के चलते ही ये कुरीति अभी तक समाज में मौजूद है.

समारोह में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया और गोविंद डोटासरा ने कहा कि जाट समाज ने हमेशा कांग्रेस का साथ दिया है. दोनों मंत्रियों ने का कहना है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत हमेशा आम आदमी आम व्यक्ति के हित की सोचते हैं. निश्चित तौर पर समाज की लड़कियों के लिए हॉस्टल के लिए जमीन के प्रस्ताव पर भी गौर किया जाएगा. कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सर्व समाज की विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली प्रतिभाओं के साथ ही समाज के बुजुर्गों का भी सम्मान किया गया. इसके लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद मंच से नीचे उतरे और जाकर बुजुर्गों का आशीर्वाद लिया. कुल मिलाकर आज के इस कार्यक्रम के जरिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ना केवल भाजपा और संघ पर निशाना साधा बल्कि अपने दिल की कई अहम बातें शेयर की. खासतौर पर घुंघट और बुर्के प्रथा को लेकर सीएम जिस तरीके से लगातार अपनी बात रख रहे हैं. उम्मीद है समाज में इसे लेकर जागरूकता का माहौल जरूर बनेगा.


Leave a comment