सरेआम फायरिंग की सनसनीखेज वारदात का खुलासा, मुख्य आरोपी गिरफतार

जागरूक टाइम्स 475 Feb 28, 2019

दौसा (ईएमएस)। शहर में 17 दिसंबर 2018 को अमन विहार कॉलोनी दौसा में सुग्रीव कुमार मीना व्याख्याता के मकान पर रात के समय हुई फायरिंग केस को गंभीरता से लेते हुए जिला पुलिस अधीक्षक प्रहलाद सिंह कृष्णिया के आदेशानुसार अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दौसा सुरेन्द्र सिंह व वृताधिकारी वृत दौसा राजेन्द्र त्यागी के सुपरविजन में गणपतराम चौधरी पुनि थानाधिकारी थाना कोतवाली दौसा, नरेश कुमार उनि प्रभारी साईबर सैल दौसा के नेतृत्व में प्रदीप सिंह हैडकानि 181,लोकेश कुमार शर्मा कानि 242, लक्ष्मीकांत शर्मा कानि 1194 दिलीपसिंह कानि 363, नागपाल कानि 365 राजेन्द्र कुमार कानि 315, घनश्याम कानि 509, दिनेश कुमार राठी कानि 1249 साईबर सेल दौसा एक विशेष टीम का गठन कर इस ब्लाईंड फायरिग केस को ट्रेस करने के निर्देश प्रदान किए गए।

निर्देशानुसार पुलिस थाना कोतवाली दौसा की विशेष टीम व साईबर सेल के संयुक्त प्रयासों से घटना के करीब ढाई महीने बाद उक्त सनसनीखेज वारदात का पर्दाफाश करते हुए उक्त वारदात को अंजाम तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाने वाले मास्टरमाइंड अभियुक्त अजय कुमार मीना निवासी मीना कॉलोनी दौसा को गिरफ्तार करते हुए ब्लाइंड फायरिंग केस की गुत्थी सुलझा दी है।

दौसा शहर में अमन विहार कॉलोनी दौसा में 17 दिसम्बर 2018 की रात समय करीब 9.30 पीएम पर सुग्रीव कुमार मीना निवासी गंडरावा के मकान पर अज्ञात बदमाशों द्वारा फायरिंग की गई थी, जिस पर पुलिस द्वारा मौके पर जाकर घटनास्थल का जायजा लिया तो मौके पर रसोई में एक चला हुआ कारतूस मिला तथा दिवार में छेद हो गया था तथा रसोई के शीशे टूटे हुए थे, जिससे स्पष्ट था कि अज्ञात बदमाशो द्वारा फायरिंग की घटना को कारीत किया गया है, जिस पर सुग्रीव कुमार मीना ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ जान से मारने की नीयत से फायरिंग करने की रिपोर्ट मौके पर दी थी जिस पर प्रकरण दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया गया।

हो सकता था बड़ा हादसा
बदमाशों द्वारा जो फायरिंग की गई थी उससे करीब दो मिनट पहले ही सुग्रीव कुमार मीना की पत्नी कमला देवी रसोई का काम निपटा कर रसोई की लाईट बंद कर अंदर कमरें मे सोने के लिए गई ही थी कि बदमाशों द्वारा फायरिंग कर दी गई, यदि कमला देवी रसोई के अंदर ही होती तो बडा हादसा हो सकता था। शहर दौसा में हुई इस तरह से सरेआम फायरिंग की घटना को गंभीरता से देखते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दौसा सुरेन्द्र सिंह व वृत्ताधिकारी वृत दौसा राजेन्द्र त्यागी के सुपरविजन मे निम्न टीम का गठन कर उक्त वारदात का पर्दाफाश करने के निर्देश दिए गए।

गणपतराम चौधरी पुनि थानाधिकारी थाना कोतवाली दौसा, नरेश कुमार उनि प्रभारी मय टीम साइबर सेल दौसा, प्रदीप सिंह हैड कानि 181 थाना कोतवाली दौसा ,लोकेश कुमार शर्मा कानि 242 थाना कोतवाली दौसा,लक्ष्मीकांत शर्मा कानि 1194 थाना कोतवाली दौसा, दिलीपसिंह कानि 363 थाना कोतवाली दौसा, नागपाल कानि 365 थाना कोतवाली दौसा,राजेन्द्र कुमार कानि 315 थाना कोतवाली दौसा घनश्याम कानि 509 थाना कोतवाली दौसा को नियुक्तकिया गया।

वारदात को गम्भीरता से लेते हुए गठित की गई विशेष टीम द्वारा आसूचना संकलन के जरिये तथा तकनिकी मदद से दौसा, जयपुर, करौली टीमें भेजकर विभिन्न संदिग्धों को दस्तयाब कर पूछताछ की गई इसी कडी में संदिग्ध अजय कुमार मीना पुत्र रामप्रताप मीना निवासी मीना कॉलोनी दौसा को कोतवाली दौसा की स्पेशल टीम द्वारा जगतपुरा जयपुर से उसके किराये के कमरें से दस्तयाब कर मनोवैज्ञानिक तरीके से तथा तकनिकी मदद से पूछताछ की गई तो अभियुक्त अजय कुमार द्वारा उक्त वारदात को अन्जाम देना स्वीकार किया गया।

अभियुक्त अजय कुमार मीना सुग्रीव कुमार मीना की बेटी का कॉलेज में आते जाते वक्त पीछा करता था तो उसके द्वारा घरवालों को बताने पर सुग्रीव कुमार मीना ने इसकी शिकायत अजय के घरवालों से की थी तथा अजय को डॉट फटकार दिया था, जिससे खफा होकर उसने इस परिवार के साथ बूरा करने की सोच रखी थी तथा अजय की इच्छा थी कि उक्त लडकी मेरे से ही शादी करे लेकिन लडकी के घरवालो ने उसकी शादी बॉसखोह में महेश कुमार मीना कस्टम इंस्पेक्टर के साथ तय कर दी थी।

जिससे अजय नाराज था और वह येन-केन प्रकरेण उक्त शादी को तुडवाने का प्रयास कर रहा था इसके लिए उसने सगाई हो जाने के बाद लडकी के घर तथा लडके के घर बदनामी करने जैसी बातेंं लिखकर कागज फिंकवाए, जिससे की उक्त सगाई टूट जाए लेकिन तब भी सगाई नही टूटी तो उसने इसके बारें में अपने दोस्त मुलकराज मीना निवासी पापडदा को बताया तो उसने बताया कि इसकी टेंशन मुझे दे मैं सब देख लूॅगा तेरा काम मैं कर दूॅगा लेकिन पचास हजार रूपये लगेगे तो उसने हॉ कर दी तो मुलकराज मीना निवासी पापडदा ने 50,000 रूपये की सुपारी लेकर उक्त फायरिंग की वारदात को अंजाम दिया मुलकराज मीना निवासी पापडदा फरार है जिसकी तलाश जारी है। जॉच जारी है।

अभियुक्त इतना सिरफिरा हो चुका था कि दौसा में फायरिंग हो जाने के बाद भी रिश्ते नही टूट सके तो उसने अपने साथी मुलकराज मीना निवासी पापडदा की मदद से दूल्हे महेश कुमार मीना के घर बांसखोह में 20 जनवरी 2019 को रात को उसके घर में आग लगवा दी जिसके संबंध में पुलिस थाना बस्सी में जॉच जारी हैं।

अभियुक्त अजय कुमार मीना के इक-तरफा प्यार होने तथा लडकी व उसके परिजनों द्वारा की गई डॉट फटकार से हुई बेईज्जती का बदला लेने का जूनून सवार था दौसा मे दूल्हन के घर फायिंंरग करवाने, दूल्हे के घर में आग लगाने के बाद भी जब सगाई नही टूटी और शादी का समय नजदीक आ गया तो अभियुक्त द्वारा मुलकराज मीना निवासी पापडदा को पॉच सात लडके ले जाकर दूल्हे के घर मारपीट करने तथा फायरिंग के लिए कहा जिस पर मुलकराज मीना निवासी पापडदा ने 5 फरवरी 2019 को दूल्हे के घर बॉसखोह में अपने साथियों के साथ जाकर गीत गाती महिलाओं के उपर ताबडतोड लाठी डंडो सरियोंं से वार कर दिया तथा हवाई फायिंरंग की गई जिससे महिलाओं के गंभीर चोटे आई जिनको अस्पताल मे भर्ती करवाया जाकर ईलाज करवाया गया तथा पुलिस थाना बस्सी में मुकदमा दर्ज किया गया जिसकी भी जॉच जारी है।

जिले में घटनाक्रमो को देखते हुए पुलिस अधीक्षक दौसा के निर्देश पर थानाधिकारी कोतवाली दौसा द्वारा शादी 06 फरवरी 2019 से लेकर 09 फरवरी 2019 तक विवाह स्थल अरावली विहार होटल खान भांकरी रोड दौसा तथा दूल्हन के घर अमन विहार कॉलोनी में हथियार बंद सुरक्षा लगाई गई थी।



Leave a comment